तेजस्वी और तेजप्रताप पर मर्डर का केस दर्ज, जल्द होगी पूछताछ

पटना (TBN – The Bihar Now डेस्क) | रविवार की सुबह पूर्णिया जिले में राजद एससी-एसटी प्रकोष्ठ के पूर्व प्रदेश सचिव शक्ति मल्लिक की अपराधियों ने मुर्गी फॉर्म रोड स्थित उनके घर में घुसकर हत्या कर दी. सूत्रों के मुताबिक, तीन नकाबपोश अपराधी आए और 40 साल के मल्लिक के सिर और छाती में तीन गोलियां मारीं. घरवाले मल्लिक को घायल अवस्था में सदर अस्पताल ले गए, मगर कुछ ही देर में उनकी मौत हो गई. इसके बाद शक्ति मल्लिक की पत्नी ने तेजस्वी और तेजप्रताप पर मर्डर का केस दर्ज कराया है.

SP विशाल शर्मा ने शक्ति मल्लिक हत्या कांड में बताया कि शक्ति के पत्नी के बयान पर से हाट थाने में मामला दर्ज किया गया है. उन्होंने बताया कि परिजन का कहना है कि शक्ति की हत्या राजनीतिक साजिश की तहत की गई है. इस मामले में राजद नेता तेजस्वी यादव, तेजप्रताप यादव, अनिल साधु, कालो पासवान, मनोज पासवान सहित छह लोगों को मुख्य अभियुक्त बनाया गया है. SP ने कहा कि शक्ति मल्लिक रानीगंज सुरक्षित सीट से विधानसभा प्रत्याशी के तौर पर चुनाव लड़ने की तैयारी कर रहा था.

मृतक शक्ति मल्लिक की पत्नी खुश्बू मल्लिक ने बताया कि हत्या के पीछे तेजस्वी यादव और तेज प्रताप यादव का हाथ है. खुश्बू ने कहां कि ये दोनों चुनाव लड़ने के लिए बड़ी रकम की डिमांड कर रहे थे, जो देने में शक्ति सक्षम नहीं था. उसके बाद ही उसके पति की हत्या की साजिश को अंजाम दिया गया है. पुलिस सभी बिंदुओं पर जांच कर रही है. शक्ति की हत्या राजनीतिक साजिश का परिणाम है या उसके कारोबार का हिस्सा, ये जांच के बाद ही सामने आएगा.

इसके साथ ही एसपी विशाल शर्मा ने बताया कि शक्ति मल्लिक का पहले कई वीडियो वायरल हुआ है. उन सबकी भी जाँच की जा रही है. शर्मा ने बताया कि संगीन मामलों में परिजनों के आरोप पर ही FIR दर्ज किया जा सकता है. वहीं उन्होंने कहा कि फॉरेंसिक टीम लगातार काम कर रही है और अपराधी के भागने के दौरान सीसीटीवी फुटेज को भी देखा जा रहा है. एसपी ने बताया कि जरूरत पड़ी तो तेजस्वी और तेजप्रताप से भी इस मामले में पूछताछ की जाएगी.

इधर इस मामले पर बीजेपी नेता सुशील मोदी ने ट्वीट कर कहा है कि “परिवारवादी राजद ने बिना सहयोगी दलों की राय लिए, बल्कि दलितों-पिछड़ों की दो पार्टियों को अपमानित कर जिस व्यक्ति को सीएम-फेस बनाने की जिद पूरी की, उस राजकुमार के चेहरे पर पूर्णिया के युवा दलित नेता की हत्या का आरोप लगा. कांग्रेस और वामदल बतायें कि क्या चुनाव लड़ने का टिकट देने के बदले 50 लाख रुपये मांगने और हत्या कराने का आरोपी सीएम-फेस महागठबंधन को मंजूर है?”