महंगाई पर विपक्ष के हंगामे के कारण लोकसभा की कार्यवाही स्थगित

नयी दिल्ली (TBN – The Bihar Now डेस्क)| कांग्रेस (Congress) समेत विपक्ष ने ज़रूरी सामानों पर लगाए गए वस्तु एवं सेवा कर (GST) और महंगाई को लेकर लोकसभा (Lok Sabha) में मंगलवार को हंगामा किया जिसके कारण लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला (Lok Sabha Speaker Om Birla) ने सदन की कार्यवाही बुधवार तक स्थगित कर दिया.

सदन की कार्यवाही शुरू होते ही कांग्रेस समेत विपक्षी दल महंगाई के मुद्दे को लेकर सदन के बीचोंबीच आ गए. सभी हाथों में तख़्तियाँ लेकर नारेबाज़ी करने लगे.

लोकसभा अध्यक्ष ने हंगामे के बीच प्रश्नकाल (Question Hour) शुरू किया लेकिन हंगामा बढ़ता गया जिसके कारण सदन की कार्यवाही को दो बजे तक स्थगित कर दी गई. दो बजे सदन की कार्यवाई शुरू होने पर विपक्ष फिर से महंगाई के मुद्दे पर हंगामा करना शुरू कर दिया. इसपर लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने सदन की कार्यवाही बुधवार तक स्थगित कर दिया.

इससे पहले, सुबह में लोकसभा अध्यक्ष ने कहा कि सदन के अंदर तख़्तियाँ लेकर आना सही नहीं है इसलिए सदस्यों को इसका ध्यान और सदन की गरिमा का पालन करना चाहिए. उन्होंने कहा कि आप लोग बाहर किसान और महंगाई की बात करते हैं, लेकिन सदन में बात नहीं करते हैं यह उचित नहीं है.

इस तरह मानसून सत्र में लगातार दूसरे दिन महंगाई तथा अन्य मुद्दों पर चर्चा की मांग को लेकर हंगामे के कारण कार्यवाही बाधित हुई है. सत्र के पहले दिन भी इसी मुद्दे पर हंगामे के कारण कार्यवाही स्थगित कर दी गई थी.

राहुल गांधी का हमला

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने कई खाद्य वस्तुओं को माल एवं सेवा कर (जीएसटी) के दायरे में लाए जाने को लेकर मंगलवार को केंद्र सरकार पर ‘वसूली सरकार’ होने का आरोप लगाया और कहा कि संसद में चर्चा और सवालों से भागना ‘असंसदीय’ है.

यह भी पढ़ें| गायक भूपिंदर सिंह का 82 वर्ष की आयु में निधन

उन्होंने ट्वीट किया, ‘‘रुपया पहुंचा 80 पार, गैस वाला मांगे रुपये हज़ार, जून में 1.3 करोड़ बेरोज़गार, अनाज पर भी जीएसटी का भार. जनता के मुद्दे उठाने से हमें कोई रोक नहीं सकता, सरकार को जवाब देना ही पड़ेगा. संसद में चर्चा और सवालों से भागना सबसे ‘असंसदीय’ है, प्रधानमंत्री जी.’’

उन्होंने प्रधानमंत्री मोदी पर निशाना साधते हुए दावा किया, ‘‘जब मोदी विपक्ष में थे, तब उन्होंने महंगाई को सबसे बड़ा मुद्दा बनाया था, लेकिन आज उन्होंने जनता को समस्याओं के गहरे दलदल में धकेल दिया है, जिसमें लोग रोज़ धंसते जा रहे हैं. उनकी इस बेबसी पर प्रधानमंत्री मौन हैं, खुश हैं और झूठ पर झूठ बोल रहे हैं.’’

इससे पहले, कांग्रेस नेता एक फेसबुक पोस्ट में कहा, ‘‘अबकी बार, ‘वसूली’ सरकार’? अब से दूध, दही, मक्खन, चावल, दाल, ब्रेड जैसे पैक्ड उत्पादों पर जनता से 5 प्रतिशत जीएसटी वसूला जाएगा’’

बताते चलें, जीएसटी परिषद (GST Council) के फैसले लागू होने के बाद सोमवार से कई खाद्य वस्तुएं महंगी हो गईं हैं. इनमें पहले से पैक और लेबल वाले खाद्य पदार्थ जैसे आटा, पनीर और दही शामिल हैं, जिन पर पांच प्रतिशत जीएसटी देना होगा.