एनडीए के खिलाफ या एनडीए के साथ नीतीश सरकार के नेता

मनेर (TBN – The Bihar Now डेस्क)-| मनेर विधानसभा में दूसरे चरण में चुनाव होने वाला है पर अभी तक एनडीए ने किसी भी प्रत्याशी का नाम घोषित नहीं किया है. पार्टी के नेताओं का कहना है कि एनडीए के उम्मीदवार के रूप में निखल आनंद के नाम की चर्चा जोरों से चल रही है. नेताओं का कहना है कि जिस उम्मीदवार का नाम सामने आ रहा है उन्हें हम देखना भी नही चाहते हैं, हम एनडीए के उम्मीदवार के रूप में जीवन कुमार को देखना चाहते हैं.

गुरुवार को बिहटा में वैश्य समाज के अध्यक्ष गोविंद सेठ के नेतृत्व में वैश्य एवं अतिपिछड़ा समाज की एक बैठक हुई. बैठक में विधानसभा चुनाव में एनडीए द्वारा दिये जा रहे संभावित प्रत्याशी के नाम पर बड़ा आक्रोश देखा गया. लोगों का कहना था कि पिछले कई चुनाव में यहां से एनडीए के प्रत्याशी लगातार इसलिए हार रहे हैं क्योंकि वो एक ही जाति विशेष से दिया जा रहे हैं. कई बार इसका विरोध भी हुआ पर इन सब के बावजूद पार्टी ऐसी गलती कर रही है जिससे फिर से हार का सामना करना पड़ सकता है. पार्टी एक ऐसे व्यक्ति को प्रत्याशी बनाने जा रही है जिन्होंने ना क्षेत्र भ्रमण किया है और ना ही कोई उन्हें जानता है. नेताओं का मानना है इस बार बिहटा क्षेत्र से समाजसेवी जीवन कुमार ने भी अपनी दावेदारी पेश की थी.

वैश्य समुदाय से आने वाले जीवन का अतिपिछड़ा, सवर्ण और यादव के साथ ही मुस्लिम समुदायों में भी बेहतर पकड़ है. मनेर में इस बार एनडीए की जीत सुनिश्चित थी. अगर पार्टी ने ऐसे कैंडिडेट को टिकट दिया जो हारने वाला है तो हमें बूथ पर जाने और किसी का विरोध करने से क्या फायदा. हम उसे ही वोट देकर जिता देंगे या निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में चुनाव लड़ाने का काम करेंगे।
अनुराग