बिहार की राजनीति में अब प्रासंगिक नहीं रहे लालू यादव: सुशील मोदी

पटना (TBN – The Bihar Now डेस्क)| बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री और भारतीय जनता पार्टी के नेता सुशील कुमार मोदी ने मंगलवार को चारा घोटाला मामले में लालू प्रसाद यादव की सजा पर खुशी व्यक्त करते हुए कहा कि यह लालू राज्य की राजनीति में प्रासंगिक नहीं हैं.

एजेंसी से बात करते हुए सुशील मोदी ने कहा, “हम ही हैं जिन्होंने इस मामले को प्रकाश में लाया. हमने सीबीआई जांच की मांग करते हुए पटना उच्च न्यायालय का दरवाजा खटखटाया. मुझे खुशी है कि बिहार को लूटने वालों को दंडित किया जा रहा है. बिहार की राजनीति में लालू यादव अब प्रासंगिक नहीं हैं (Sushil Modi said that Lalu Yadav no longer relevant in Bihar politics)”.

बता दें, बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के नेता लालू प्रसाद यादव को मंगलवार को रांची में सीबीआई की विशेष अदालत (CBI Special Court in Ranchi) ने डोरंडा कोषागार से धोखाधड़ी से निकासी का दोषी ठहराया है.

यह भी पढ़ें| स्कूटर पर मवेशी ढुलाई वाले ‘चारा घोटाला’ में लालू दोषी करार, 21 को सजा का ऐलान

चारा घोटाला मामले में सीबीआई कोर्ट ने फैसला सुनाते हुए राजद नेता को दोषी पाया. डोरंडा कोषागार मामले (Doranda treasury case) में बचाव पक्ष के वकील संजय कुमार ने कहा कि 36 लोगों को तीन-तीन साल की जेल की सजा दी गई है.

बचाव पक्ष के वकील ने मीडियाकर्मियों से कहा, “रांची में सीबीआई की विशेष अदालत ने 36 लोगों को तीन-तीन साल की जेल की सजा दी है. लालू प्रसाद यादव को दोषी ठहराया गया है. उन्हें दी जाने वाली सजा का फैसला किया जाना बाकी है.”

लालू यादव के वकील ने आगे बताया कि लालू प्रसाद यादव की सजा की घोषणा के लिए 21 फरवरी को रांची की सीबीआई की विशेष अदालत में सुनवाई होगी.

इससे पहले पिछले साल अप्रैल में, झारखंड उच्च न्यायालय (Jharkhand High Court) ने चारा घोटाले से संबंधित मामलों में से दुमका कोषागार (Dumka Treasury) से धोखाधड़ी से निकासी के एक मामले में राजद सुप्रीमो को जमानत दे दी थी, जिसके लिए उन्हें दोषी ठहराया गया था. उन्हें अक्टूबर 2020 में चाईबासा ट्रेजरी घोटाला मामले (Chaibasa Treasury Scam case) में और फरवरी 2020 में देवघर ट्रेजरी घोटाला मामले (Deoghar Treasury Scam case) में पहले ही जमानत दे दी गई थी.