लालू ने राज्य को डाला कुशासन के गर्त में

पटना (TBN रिपोर्ट) | राजद के लगातार बिहार सरकार को लेकर दिए गए बयानों के पलटवार में उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने राजद पर निशाना साधते हुए कहा कि राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष का इस्तीफा देना, 5 एमएलसी का सामूहिक रूप से अलग हो जाना और प्रदेश उपाध्यक्ष के पार्टी छोड़ने की तैयारी ये सब दीवार पर लिखी ऐसी इबारत है, जिसे लालू प्रसाद यादव पढ़ना नहीं चाहते हैं .

आगे उन्होंने कहा है कि जिस दल का नेतृत्व पत्नी-पुत्र मोह में डूबा हो, भाई-भाई एकदूसरे को निपटाने में लगे हों और राजनीति का मकसद सिर्फ बेनामी सम्पत्ति बनाना रह गया हो, उस दल में कार्यकर्ताओं से एकजुटता और स्वार्थ से ऊपर उठने की अपील का क्या असर होगा? सुशील मोदी ने कहा है कि राजद नेतृत्व गुड़ की पूरी बोरी हड़पने के बाद कार्यकर्ताओं से गुड़ न खाने की अपील कर रहा है.

उपमुख्यमंत्री ने कहा कि लालू प्रसाद ने सीनियर साथियों को दरकिनार कर कभी मुख्यमंत्री का पद पत्नी को सौंप कर राज्य को कुशासन के गर्त में डाल दिया था. सत्ता जाने के बाद भी उनका परिवार मोह नहीं छूटा. उन्होंने कहा हैं कि जब से उन्होंने नेता विरोधी दल जैसा गंभीर पद पहली बार विधायक बनने वाले पुत्र को सौंपा है, तब से उनकी पार्टी को एकजुट रखना मुश्किल हो गया है.

इसके साथ ही राहुल गाँधी को घेरते हुए सुशील मोदी ने कहा है कि राहुल गांधी ने अत्याधुनिक लड़ाकू विमान राफेल की खरीद के फैसले पर गलत जानकारी के आधार पर झूठे आरोप लगाकर शत्रु देशों का एजेंडा चलाया. अब लद्दाख में चीन से टकराव होने पर वे रक्षा जैसे संवेदनशील मामले पर लगातार ट्वीट कर सेना का मनोबल तोड़ने की कोशिश कर रहे हैं.

आगे उन्होंने कहा कि ये वही राहुल गांधी हैं, जिन्होंने रक्षा मंत्रालय की संसदीय समिति की 11 में से एक भी बैठक में हिस्सा नहीं लिया. ऐसे गैरजिम्मेदार व्यक्ति को प्रधानमंत्री बनाने की कांग्रेस की जिद कभी पूरी नहीं होगी.