‘लालू के लाल’ ने ले ली रघुवंश बाबू की जान – मांझी का बड़ा बयान

पटना (TBN – The BIhar Now डेस्क) | बिहार राजनीति के ब्रम्हा बाबा रघुवंश बाबू के निधन से लोगों के बीच शोक की लहर है. लेकिन इस गमगीन मौके पर भी राजनीति करने वालों ने अपनी चाल शुरू कर दी है. रघुवंश बाबू की मौत पर सियासत की शुरुआत बिहार के ही पूर्व सीएम जीतन राम मांझी ने की है.

मांझी ने रघुवंश बाबू की मौत के लिए ‘लालू के लाल’ तेजप्रताप यादव को जिम्मेदार ठहराया है. मांझी ने कहा है कि तेज प्रताप के एक बयान ने रघुवंश प्रसाद सिंह की जान ले ली है. इतना ही नहीं, तेज प्रताप के रघुवंश प्रसाद सिंह को श्रद्धांजलि देने हेतु नहीं पहुँचने पर भी मांझी ने सवाल उठाते हुए कहा कि अंतिम समय में भी श्रद्धाजंलि देने नहीं जाना तेज प्रताप के संस्कार को दिखाता है.

मांझी ने आरोप लगाते हुए कहा कि रघुवंश प्रसाद सिंह की लालू परिवार ने साजिशन हत्या की है. उन्होंने तेज प्रताप के उस बयान का जिक्र किया जिसमें तेजप्रताप ने रघुवंश प्रसाद सिंह के आरजेडी से जाने की तुलना समुंद्र से लोटा भर पानी निकलने से की थी. इसी बयान को रघुवंश प्रसाद सिंह के लिए सदमा बताते हुए मांझी ने कहा कि जिस आदमी ने आरजेडी को 35 सालों तक सींचा हो, वह तेज प्रताप के इस बयान को कैसे बर्दाश्त कर पाता. मांझी ने इसी पर कहा कि रघुवंश बाबू का निधन नहीं बल्कि लालू परिवार के द्वारा साजिशन हत्या की गई है.

इधर बीजेपी ने भी तेजप्रताप के बयान को ही रघुवंश बाबू की मौत का कारण बताया है. बीजेपी नेता प्रेम रंजन पटेल ने कहा कि तेजप्रताप के बयान ने रघुवंश बाबू के करियर पर सबसे बड़ा हमला किया. चूंकि रघुवंश प्रसाद सिंह लालू से बड़े कद के नेता थे, इसलिए तेजप्रताप का यह बयान रघुवंश बाबू को सदमा दे गया.

आरजेडी ने मांझी पर निकाली भड़ास

वहीं जीतन राम मांझी द्वारा तेजप्रताप पर दिए गए बयान को आरजेडी से आड़े हाथों लिया है. पार्टी नेता मृत्युंजय तिवारी ने मांझी पर हमला बोलते हुए कहा कि आज वे जिस गठबंधन में गए है वहां लोग पहले से ही मौत पर सियासत करते रहे हैं. बिहार चुनाव से पहले एनडीए ने सुशांत सिंह राजपूत की मौत पर सियासत कर रही है, इसके बाद अब वे लोग रघुवंश बाबू की मौत पर राजनीति कर रहे हैं. मृत्युंजय तिवारी ने कहा कि आरजेडी के लिए रघुवंश बाबू हमेशा से गरिमा की बात रहे हैं. इसलिए लोगों को रघुवंश बाबू की मौत पर सियासत करना छोड़ देना चाहिए.