मेरे दौरे से लालू और नीतीश के पेट में दर्द – अमित शाह

पूर्णिया (TNB – अनुभव सिन्हा)| केंद्रीय गृह मंत्री और भारतीय जनता पार्टी के पूर्व अध्यक्ष अमित शाह (Union Home Minister Amit Shah) ने शुक्रवार को कहा कि बिहार में लालू प्रसाद और नीतीश कुमार की जोडी भले ही आ गई हो, लेकिन डरने की जरूरत नहीं है, उपर मोदी सरकार (Modi Government) है. उन्होंने कहा कि नीतीश प्रधानमंत्री बनने की लालसा में लालू की गोद में जाकर बैठ गए है. उन्होंने कहा कि मेरे दौरे से लालू यादव और नीतीश कुमार के पेट में दर्द हो रहा है.

पूर्णिया के रंगभूमि मैदान (Rangbhumi Maidan of Purnia) में “जन भावना महासभा” में एक विशाल जनसभा को संबोधित करते हुए गृह मंत्री ने कहा कि बिहार की धरती परिवर्तन की धरती रही है और इस कडी़ धूप में यह भीड लालू-नीतीश सरकार (Lalu-Nitish government) को चेतावनी का सिग्नल है. यह उपस्थिति हम सब का मनोबल बढाएगी. अंग्रेजों से लड़ाई हो या लोकतंत्र के खिलाफ इंदिरा गांधी का आपातकाल, इनके विरूद्ध लडाई बिहार से ही प्रारंभ हुई है.

उन्होंने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (CM Nitish Kumar) और राजद नेता लालू प्रसाद (RJD Supremo Lalu Yadav) को घेरते हुए कहा कि भाजपा (BJP) को धोखा देकर स्वार्थ के लिए लालू की गोद में नीतीश बैठ गए.

मेरे दौरे से लालू – नीतीश के पेट में दर्द

उन्होंने कहा कि मेरे दौरे से लालू यादव और नीतीश कुमार के पेट में दर्द हो रहा है. वे कह रहे है कि मैं यहां झगड़ा लगाने आया हूं. मैं यहां किसी से झगड़ा कराने नहीं आया हूं. लालू जी आप तो खुद काफी हैं झगड़ा लगाने के लिए, आपने जीवन भर झगड़ा लगाने का ही काम तो किया है.

सीमांचल इलाके में डर का माहौल पैदा हुआ

उन्होंने कहा कि जब से दोनों साथ आए हैं, तब से इस सीमांचल इलाके में डर का माहौल पैदा हुआ है, लेकिन अब डरने की जरूरत नहीं है, देश में मोदी जी की सरकार है. किसी को डरने की जरूरत नहीं है. किसी की हिम्मत नहीं की आपको डरा सके.

नीतीश ने सबके साथ किया धोखा

बिहार मुख्यमंत्री को सत्ता और स्वार्थ की राजनीति करने का आरोप लगाते हुए अमित शाह ने कहा कि नीतीश कुमार ने सबके साथ धोखा किया. जनता पार्टी में देवीलाल गुट के साथ गए, प्रतिष्ठित समाजवादी जॉर्ज फर्नांडीस के साथ धोखा दिया. जॉर्ज का स्वास्थ्य खराब होते ही उन्हें हटाकर पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष बन गए, उसके बाद लालू प्रसाद के साथ कपट किया. शरद यादव के साथ धोखा दिया. जीतन राम मांझी और रामविलास पासवान को धोखा दिया. लालू को धोखा देकर बीजेपी के साथ आए और पीएम बनने के लिए फिर बीजेपी को धोखा देकर लालू प्रसाद के साथ चले गए. यह धोखा बिहार के जनादेश के साथ है.

यह भी पढ़ें| क्या नीतीश कुमार का भविष्य आश्रम में बीतेगा ?

अमित शाह ने लालू यादव को सजग करते हुए कहा कि आप ध्यान रखिएगा, नीतीश कुमार कल आपको छोड़कर कांग्रेस की गोदी में बैठ जाएंगे.

भाजपा ने बड़प्पन दिखाते हुए नीतीश को बनाया मुख्यमंत्री

उन्होंने कहा कि पिछले चुनाव में भाजपा से आधी सीटें जदयू को आई थी, लेकिन भाजपा ने बड़प्पन दिखाते हुए नीतीश कुमार को मुख्यमंत्री बनाया. आज जैसे ही लोकसभा चुनाव नजदीक आया प्रधानमंत्री बनने के लिए नीतीश कुमार कांग्रेस और लालू जी की गोदी में जाकर बैठ गए.

उन्होंने कहा कि नीतीश कुमार 2014 में भी यही किए थे और दो सीटों पर सिमट गए थे. 2024 के चुनाव में बिहार की जनता लालू , नीतीश की जोडी का सूपड़ा साफ करने वाली है. 2025 के चुनाव में भी पूर्ण बहुमत की सरकार बनाने जा रहे हैं.

नीतीश की एक ही नीति

नीतीश कुमार पर करारा प्रहार करते हुए शाह ने कहा कि नीतीश कुमार कोई राजनीतिक विचारधारा के पक्षधर नहीं है. वे समाजवाद छोडकर लालू प्रसाद के साथ जा सकते हैं, जातिवादी राजनीति कर सकते हैं, समाजवाद छोडकर वामपंथियों के साथ भी बैठ सकते हैं, कांग्रेस में जा सकते हैं, वे राजद छोडकर भाजपा के साथ भी आ सकते हैं. उनकी एक ही नीति है कुर्सी मेरी अक्षुण्ण रहनी चाहिए. नीतीश कुमार को अब तक बिहार की जनता ने संदेह का लाभ दिया है अब सब आपको जान गए है. अब चुनाव में न राजद आएगी और न जदयू आएगी अब बिहार में कमल खिलेगा.

सीमांचल के जनजातीय परिवारों का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार इन परिवारों की योजना भेज रही है, वह यहां पहुंच नहीं रही है. उन्होंने कहा कि मोदी जी ने संथाल के गरीब परिवार में जन्मी एक महिला द्रौपदी मुर्मू को राष्ट्रपति बनाकर देश भर के गरीबों को सम्मान करने का काम किया है.

जबकि, नीतीश कुमार ने लालू प्रसाद को साथ लेकर जंगलराज के प्रति अपना रवैया स्पष्ट कर दिया है. उन्होंने लोगों से पूछा कि क्या आपको जंगल राज चाहिए. उन्होंने कहा कि जब लालू जी सरकार में हैं, तो कौन उससे बचा सकता हैं.

गृह मंत्री ने कहा कि जिस दिन नीतीश कुमार के नेतृत्व में महागठबंधन की सरकार ने शपथ ली, तब से ही कानून व्यवस्था की स्थिति चरमरा गई.

नीतीश षडयंत्र को नहीं रोक पाएंगें

उन्होंने नीतीश कुमार को निशाने पर लेते हुए कहा कि नीतीश कुमार षडयंत्र को नहीं रोक पाएंगें, क्योंकि अपराधी सत्ता में ही बैठे में है. उन्होंने जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष ललन सिंह को नया नेता बताते हुए कहा कि पहले जो चारा घोटाला की बात करते थे अब क्या करेंगे. अब तो घोटालेबाज ही मंत्री बन बैठे हैं. मंत्री बनने के बाद अब सीबीआई पर प्रतिबंध लगाने की सोच रहे हैं. एक जामाना था जब आप सीबीआई में आवेदन दिए थे और अब सत्ता जाने के भय से सीबीआई के खिलाफ बोल रहे.

पूरे बिहार में जंगलराज का खतरा

उन्होंने कहा कि पूरे बिहार में जंगलराज का खतरा मंडरा रहा है. उन्होंने कहा कि बिहार और झारखंड वामपंथी उग्रवाद का अड्डा हुआ करता था, लेकिन तीन साल में ही दोनों राज्यों को वामपंथ उग्रवाद से मुक्त कर दिया गया. उन्होंने कहा कि मोदी सरकार गरीबों की सरकार है. मोदी सरकार ने करोडों लोगों को घर देने का काम किया. बिहार के घरों में शत प्रतिशत बिजली पहुंचाने का काम किया. लाखों की संख्सा में गैस सिलेंडर पहुंचाने का काम किया. बिहार की 50 प्रतिशत आबादी को स्वाथ्य का पूरा खर्चा माफ करने का काम मोदी सरकार न किया. प्रत्येक घर में शौचालय पहुंचाने का काम किया. दो साल तक हर गरीब कों प्रति व्यक्ति, प्रति माह पांच किलो राशन मुफ्त में देने का काम नरेंद्र मोदी जी ने किया है.

उन्होंने कहा कि पूर्णिया में हवाई अड्डा लगभग बन गया है. कई राष्ट्रमार्ग बने. ए पी जे अब्दुल कलाम कुशी महाविधालय की स्थापना एक हजार करेाड रुपये की लागते से हो गई है. 1900 करोड की लागत से मनिहारी -साहेबगंज के बीच में गंगा में पुल बनने का काम बनाने के काम का शिलान्यास हो चुका है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 2015 में कहा था कि उनकी सरकार 1 लाख 25 हजार करोड़ रुपये बिहार के विकास के लिए खर्च करेगी लेकिन 1.35 लाख खर्च कर चुकी है. उन्होंने कहा कि आज वह पिछले सात साल का हिसाब अपने साथ लेकर आए हैं. हमारी सरकार ने इन सालों में बिहार में महामार्ग निर्माण के लिए 14 हजार करोड़ रुपया, ग्रामीण सड़क के लिए 22 हजार करोड़ रुपये खर्च किए. सरकार ने रेलवे के लिए 56 हजार करोड़ खर्च किया है. हवाईअड्डे के लिए 1280 करोड़ और पर्यटन के लिए 1600 करोड़ खर्च हुआ है. इसके अलावा पेट्रोलियम गैस के लिए 32 हजार करोड़, बिजली के लिए 16 हजार कहा था 14 हजार करोड़ खर्च किया जा चुका है.

गृहमंत्री ने लालू-नीतीश पर तंज करते हुए कि लालू जी के राज में बिहार में क्या हो रहा था, ये सबको मालूम है. दिनदहाड़े अपहरण होता था, फिरौती मांगी जाती थी, हत्याएं होती थी. फिर लालू जी लट्ठ रैली निकालते थे. अब गांधी मैदान में लालू-नीतीश दोनों लट्ठ रैली निकालेंगे और लालू नीतीश के कंधे पर रहेंगे. एक बार बीजेपी को पूर्ण बहुमत दे दीजिए. हम बिहार को देश का सबसे विकसित राज्य बना देंगे.