लालू बोले मंत्री के खिलाफ कोई मामला नहीं, वकील बोले कानून मंत्री नहीं हैं फरार

पटना (TBN – The Bihar Now डेस्क)| बुधवार को सूबे के कानून मंत्री कार्तिकेय सिंह (Kartikeya Singh) को लेकर राजनीतिक गलियारों में बवाल मचा हुआ है. नए मंत्रिमंडल के बनने के बाद पहली बार पटना पहुंचे आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव (Lalu Prasad Yadav) ने इस मामले पर कहा कि कार्तिकेय सिंह पर लग रहे आरोप गलत हैं. उनके खिलाफ कोई मामला नहीं है.

लालू प्रसाद ने कहा कि बीजेपी के नेता ऐसे ही बोलते रहते हैं. उन्होंने कहा कि कार्तिकेय सिंह पर कोई मामला दर्ज नहीं है. ये सब गलत बात है. बीजेपी के नेता झूठ बोल रहे हैं. लालू ने कहा, “सुशील मोदी झुठा आदमी है. ऐसा कोई मामला नहीं है.”

वकील ने रखा मंत्री का पक्ष

इधर, मीडिया में राज्य के कानून मंत्री कार्तिकेय सिंह के खिलाफ मामला सामने आने पर कार्तिकेय सिंह के वकील मधुसूदन शर्मा (Advocate Madhusudan Sharma) ने बुधवार को एक प्रेस कान्फ्रेंस को संबोधित किया. उन्होंने मीडिया को बताया कि जिस मुकदमे के बारे में कहा जा रहा है कि अपहरण के मामले में कार्तिकेय सिंह फरार चल रहे हैं, वो बिल्कुल बेबुनियाद है. उस मुकदमें के एफआईआर में वे अभियुक्त नहीं हैं. उनके खिलाफ कोई भी सबूत नहीं मिला है, पुलिस ने उन्हें निर्दोष बताया है.”

मंत्री के वकील ने बताया कि कानून मंत्री पर लगे सभी आरोप बेबुनियाद हैं. भारतवर्ष में संविधान सर्वोपरि है. उन्होंने कहा कि जिस मामले में कार्तिकेय सिंह को घसीटा जा रहा है, उसकी सुनवाई दानापुर सब-डिवीजन में हुई थी. सुनवाई में कानून मंत्री के गिरफ्तारी पर रोक लगा दिया गया है.

उन्होंने दानापुर सब-डिवीजन का आर्डर कॉपी का हवाला देते हुए कहा कि बीते 12 अगस्त को गिरफ्तारी पर रोक लगी है, जो अभी तक जारी है. आज के तारीख में कानून मंत्री के खिलाफ कोई मामला लंबित नहीं है.

यह भी पढ़ें| कानून मंत्री हैं कानून से फरार, बिहार में क्या यही है बहार !

मधुसूदन शर्मा ने कहा कि पुलिस ने इस पूरे मामले का अनुसंधान करके न्यायालय में चार्जशीट दायर कर दिया है. पुलिस ने कार्तिकेय कुमार की भूमिका का चार्जशीट में भी कोई जिक्र नहीं किया गया है. इसी आधार पर 12 अगस्त को कोर्ट ने वर्तमान कानून मंत्री के गिरफ्तारी पर रोक लगा दी है.

रविशंकर प्रसाद ने किया हमला

वहीं, बिहार के क़ानून मंत्री कार्तिकेय सिंह के वारंट पर भाजपा नेता रविशंकर प्रसाद (BJP leader Ravi Shankar Prasad) ने कहा कहा, “हम उम्मीद करते हैं कि पटना उच्च न्यायालय इस पर गंभीरता से ध्यान देगा. नीतीश कुमार जी कुछ तो हिम्मत दिखाइए. मैं अपेक्षा करता हूं कि कार्तिकेय सिंह को बर्खास्त किया जाए और उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाए.”

केंद्रीय मंत्री आर.के. सिंह (Union Minister R.K. Singh) ने कहा, “मैं बिहार से हूं और जो हो रहा है उससे मैं शर्मिंदा हूं. जंगलराज शुरू हो गया है. कानून मंत्री खुद फरार है, वो भी अपहरण के मामले में. आपने कैसे आदमी को कानून मंत्री बना दिया जो अनंत सिंह का दाहिना हाथ है.”

उन्होंने कहा कि अनंत सिंह एक दुर्दांत अपराधी है और मुख्यमंत्री को क्या ये सब नहीं पता है. ये विश्वास करने वाली बात है? कार्तिकेय सिंह को बर्खास्त किया जाना चाहिए.