जदयू कार्यकर्ता सम्मेलन में 2 लाख से ज्यादा के भाग लेने की संभावना

पटना (संदीप फिरोजाबादी की रिपोर्ट) | रविवार को पटना के गांधी मैदान में  जनता दल यूनाइटेड (जदयू) के कार्यकर्ता सम्मेलन का आयोजन होने वाला है. जदयू कार्यकर्ता सम्मेलन में मुख्यमंत्री और जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष नीतीश कुमार अपने पार्टी के नेताओं और कार्यकर्ताओं को गांधी मैदान से सम्बोधित करेंगे.

राजधानी पटना में जदयू कार्यकर्ता सम्मेलन के होर्डिंग-पोस्टर शहर की सड़कों और चौराहों पर लगे देखकर ही जदयू के कार्यकर्ताओं और नेताओं का उत्साह देखते ही बनता हैं. रविवार को होने वाले सम्मेलन की तैयारी पूरी कर ली गईं हैं. सम्मेलन के लिए गाँधी मैदान में विशाल मंच तैयार किया गया है. शनिवार से ही सम्मलेन में भाग लेने वाले नेताओं और कार्यकर्ताओं की भारी भीड़ को देखते हुए जदयू  के वरिष्ठ नेताओं ने ये दावा किया है कि गाँधी मैदान में हो रहे जदयू कार्यकर्ता सम्मेलन में 2 लाख से अधिक कार्यकर्ताओं के शामिल होने की सम्भावना है .

बिहार में इस साल होने वाले विधान सभा चुनाव को ध्यान में रखकर ही इस सम्मेलन का आयोजन किया गया है. सम्मेलन में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार अपनी पार्टी के कार्यकर्ताओं को आने वाले चुनाव के लिए दिशा-निर्देश देंगे. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने पिछले दिनों अपने निवास पर जिला और प्रखंड अध्यक्षों की बैठक का आयोजन किया था जिसमे मुख्यमंत्री ने ऐलान किया था कि 2020 के विधानसभा चुनाव में एनडीए 200 से अधिक सीटें हासिल करेगा. इसी दिन भारतीय जनता पार्टी के राष्टीय अध्यक्ष  जे पी नड्डा ने भी मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से उनके निवास पर मुलाक़ात की थी.

इस सम्मेलन में बिहार के अलावा सम्पूर्ण भारत से जदयू के नेताओं और कार्यकर्ताओं के शामिल होने के आसार हैं जिसको देखते हुए उनके खाने और ठहरने का विशेष प्रबंध किया गया है. युवाओं के ठहरने के लिए मिलर हाई स्कूल परिसर में इंतजाम किए गए हैं. महिला कार्यकर्ताओं के लिए सांसद आरसीपी सिंह के आवास पर ठहरने के इंतजाम किए गए हैं. छात्रों के लिए पार्टी प्रदेश अध्यक्ष बशिष्ठ नारायण  सिंह के आवास पर व्यवस्था की गई है.

विज्ञान एवं प्रावैधिकी मंत्री जयकुमार सिंह ने कहा है कि “कार्यकर्ता सम्मेलन के दिन ही मुख्यमंत्री का जन्मदिन है. इससे सम्मेलन की खुशी और बढ़ गई है. कार्यकर्ताओं में इसको लेकर और उत्साह है”.

जदयू कार्यकर्ता सम्मेलन में जदयू के नेताओं और कार्यकर्ताओं के भारी संख्या में शामिल होने के आसार को देखते हुए सुरक्षा के पुख्ता इंतज़ाम किये गए हैं. पटना के चप्पे चप्पे पर पुलिस बल तैनात किये गए हैं. सुरक्षा की दृष्टि से पटना में एक हजार अतिरिक्त पुलिस बल लगाए गए हैं.