मांझी जाएंगे जहां, डुबो देंगे नाव वहां- मृत्युंजय तिवारी

पटना (TBN – The Bihar Now डेस्क) | बिहार के राजनितिक गलियारे में फेर बदल के साथ-साथ वार-पलटवार का दौर शुरू हो चुका है. एक तरफ राजद के छः विधायक जदयू में शामिल हो गए है तो अब वहीं हिन्दुस्तानी अवाम मोर्चा ने महागठबंधन से नाता तोड़ दिया है. बताया जा रहा है कि HAM सुप्रीमो जीतनराम मांझी लगातार महागठबंधन की मुख्य घटक दल राजद से नाराज चल रहे थे.

अब इसके बाद लगातार राजद के नेता जीतनराम मांझी के महागठबंधन छोड़ने को लेकर निशाना साध रहे हैं.

जीतन मांझी के गठबंधन से अलग होने पर आरजेडी विधायक भाई वीरेंद्र ने कहा कि वे महागठबंधन में सभी को ब्लैकमेल करने का काम कर रहे थे. लालू यादव ने उनके पुत्र को एमएलसी बनाया बावजूद वे समन्वय समिति बनाने के बहाने दबाव बनाते रहे. इनका कोई नेता सम्मान नहीं करेगा. आगे भाई वीरेंद्र ने कहा कि महागठबंधन में दलित समाज के बड़े-बड़े नेता हैं उनके जाने से महागठबंधन पर कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा.

वहीं राजद नेता मृत्युंजय तिवारी ने भी हमला करते हुए कहा कि मांझी जहां जाएंगे वहां नाव डुबो देंगे. उनको फिर लौट के यहीं वापस आना है. उन्होंने कहा कि मांझी के जाने से महागठबंधन पर कोई फर्क नहीं पड़ेगा.

बता दें कि आज हम सुप्रीमो जीतनराम मांझी ने कोर कमेटी की बैठक में सर्वसम्मति से महागठबंधन से नाता तोड़ दिया है. पार्टी नेताओं की माने तो मांझी को-ऑर्डिनेशन कमिटी बनाने की मांग करते रहे लेकिन महागठबंधन के बड़े दल मांग को अनसूना किया. हम पार्टी के लाख निवेदन के बावजूद भी महागठबंधन में सामंजस्य बैठाने की कोशिश नहीं की गयी. जिसके बाद फैसला किया.

Advertisements