सत्ताधारी विधायक को जिला के पुलिस कप्तान से जान का खतरा ?

खगड़िया / भागलपुर (TBN – The Bihar Now डेस्क)| आश्चर्यजनक रूप से जदयू के एक विधायक को अपने जिले के पुलिस कप्तान से जान को खतरा है. जी हां, ये विधायक हैं खगड़िया जिला के परबत्ता के डॉ. संजीव कुमार. इन्हें जिले के एसपी अमितेश कुमार से जान का खतरा लग रहा है. इसीलिए तो इन्होंने सीएम नीतीश कुमार को पत्र लिखकर एसपी का ट्रांसफर कहीं और करने की गुहार लगाई है.

संजीव ने मुख्यमंत्री को लिखे अपने पत्र में एसपी पर गंभीर आरोप लगाया है. उन्होंने लिखा है कि जिला के एसपी अपराधियों के साथ मिले हुए हैं. डॉ संजीव ने मुख्यमंत्री से अपने लिए अब हाउस गार्ड देने की मांग की है. सत्ताधारी विधायक के इस आरोप के बाद सियासत तेज हो गई है.

लगाया जातिवादी का आरोप

विधायक ने एसपी पर जातिवाद करने का आरोप लगाया है. उन्होंने कहा है कि परबत्ता विधानसभा क्षेत्र के चार थानों में से तीन थानों में एसपी ने एक ही जाति के थाना प्रभारियों का पदस्थापन कर दिया गया है. इतना ही नहीं, एसपी ने थानों में पांच-पांच की संख्या में जेएसआई भी उसी जाति का पदस्थापित किया है.

आप यह भी पढ़ेंभारतीय कानून मंत्री का ट्विटर हैंडल एक घंटे के लिए ब्लॉक

विधायक संजीव ने अपने पत्र में कुछ थानाध्यक्षों के नाम का जिक्र करते हुए आरोप लगाया है कि इनलोगों का अपराधियों के साथ उठना-बैठना है. इस कारण उस खास जाति के अपराधी किसी से डरते नहीं है.

विधायक ने सीएम को लिखे पत्र में बताया है कि परबत्ता थानाध्यक्ष ने उनकी जान को खतरा बताते हुए एसपी को रिपोर्ट सौंपी थी. लेकिन एसपी अमितेश कुमार ने परबत्ता थानाध्यक्ष की उस रिपोर्ट को नजरअंदाज कर दिया.

विधायक के पत्र पर सरकार के सचिव सेंथिल कुमार ने राज्य के डीजीपी से इस मामले की जांच कराने की मांग की है. साथ ही उन्होंने डीजीपी से अपने मंतव्य के साथ रिपोर्ट सौंपने को भी लिखा है. सचिव का पत्र मिलने के बाद आईजी हेडक्वार्टर ने जांच के लिए लिखा है.

सीएम को लिखे पत्र में विधायक ने अपने उपर पिछले साल चुनाव के दौरान हुए हमले की चर्चा के बारे में जिक्र भी किया है. अपने पत्र में उन्होंने कहा है कि खगड़िया के जेडीयू जिला उपाध्यक्ष पप्पू भगत की भागलपुर में हत्या में भी उस खास जाति के ही लोगों का हाथ है. साथ ही उन्होंने पप्पू भगत हत्याकांड में शामिल बड़े अपराधियों के अभी भी खुलेआम घूमने की बात कही है.

सीएम को लिखे पत्र में उन्होंने यह भी लिखा है कि खगड़िया एसपी द्वारा जदयू कार्यकर्ताओं को झूठे केस में फंसाकर प्रताड़ित किया जाता है. ध्रुव कुमार शर्मा को झूठे केस में फंसाने की बात भी विधायक ने अपने पत्र में लिखा है.

उन्होंने पत्र में यह भी लिखा है कि उनके एक कार्यकर्ता ने उनके पिता को जानकारी दी है कि जेल में बंद कुछ अपराधी उनकी (विधायक की) हत्या की साजिश रच रहे हैं. यह कार्यकर्ता जेल गया था.

एसपी अमितेश कुमार का यह कहना है

इधर, खगड़िया के एसपी अमितेश कुमार ने इस मामले पर कहा है कि विधायक डॉ संजीव कुमार द्वारा मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर मुझपर कुछ आरोप लगाये हैं. इसमें मैं कुछ नहीं कह सकता हूं. मुझपर लगे आरोप सही हैं या नहीं, यह तो हमारे सीनियर अधिकारी ही बता सकेंगे’.