जगदानंद ने खोया मानसिक संतुलन – सुशील मोदी

पटना (TBN – The Bihar Now डेस्क)| राज्यसभा सांसद व बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने आरजेडी के प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह पर जमकर प्रहार किया है. उन्होंने कहा है कि जगदानंद ने अपना मानसिक संतुलन खो दिया है. साथ ही उन्होंने कहा कि देशभक्त आएसएस से तालिबान की तुलना निंदनीय है.

मोदी ने अपने ट्वीट के द्वारा कहा कि “राजद के छोटे राजकुमार की इच्छा के मुताबिक काम करने और बड़े राजकुमार से लगातार अपमानित होने के दबाव में जगदानंद मानसिक संतुलन खो रहे हैं. इसलिए वे हिंसा में विश्वास करने वाले बर्बर तालिबानियों की तुलना राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ( RSS) से कर रहे हैं. लालू परिवार की भक्ति, पुत्र मोह और वोट बैंक की राजनीति करने में जगदानंद इतना नीचे गिर जाएँगे, यह किसी ने नहीं सोचा होगा”.

लालू के कुशासन ने बिहार को बना दिया था अफगानिस्तान

उन्होंने कहा कि लालू-राबड़ी के कुशासन में बंदूक के बल पर अपहरण उद्योग चला, 100 से ज्यादा नरसंहार हुए और महिलाएँ घर से निकलने में डरती थीं. शिक्षा चौपट थी. विकास ठप था.
लालू प्रसाद ने अपने दौर में बिहार को आज के अफगानिस्तान जैसा ही बना दिया था. लालू के जेल जाने पर उनकी ‘खड़ाऊँ सरकार’ चलाने वाले जगदानंद को राजद में छिपा तालिबान क्यों नहीं दिखा?

मोदी ने ट्वीट में लिखा, “जिस आरएसएस की देशभक्ति और पीड़ित मानवता के प्रति सेवा भाव से जेपी तक प्रभावित हुए, उसे राजद के एक सीनियर नेता का तालिबानी कहना अत्यंत दुर्भावनापूर्ण और निंदनीय है”.

जगदानंद ने आरएसएस की तुलना की थी तालिबानी से

बता दें कि मंगलवार को आपदा प्रबंधन प्रकोष्ठ की बैठक को संबोधित करते हुए राजद के प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह ने आरएसएस (RSS) की तुलना तालिबानी से कर डाली थी. इसी के विरोध में सुशील मोदी ने जगदानंद को खरीखोटी सुनाई. यह जगदानंद सिंह का तेज प्रताप यादव के विवादास्पद बयान के बाद पार्टी के सार्वजनिक मंच पर पहला सम्बोधन था.

जगदानंद सिंह ने कहा था – “तालिबान नाम नहीं, एक संस्कृति है. भारत में RSS तालिबानी हैं. ये लोग दाढ़ी काटते हैं. चूड़ी बेचने वाले और पंक्चर बनाने वाले को मारते हैं. इन सबके खिलाफ लालू यादव ने लंबी लड़ाई लड़ी, संघर्ष किया और इसलिए उन लोगों ने कहा- अरबपतियों की खिलाफत करता है, धार्मिक उन्मादियों के खिलाफ है, आडवाणी को गिरफ्तार करता है इसलिए लालू प्रसाद को जेल में डालो.’