उपचुनाव में एनडीए को मिल रहे रिस्पांस का एसेसमेंट करना पत्रकारों का काम – नीतीश

पटना (TBN – The Bihar Now डेस्क)| विधानसभा उपचुनाव (Bihar Assembly By-Election 2021) में एनडीए (NDA) को मिल रहे रिस्पांस को लेकर पत्रकारों के सवाल पर मुख्यमंत्री (Nitish Kumar Chief Minister) ने कहा कि एसेसमेंट करना पत्रकारों का काम है, हमलोगों का काम लोगों की सेवा करना है. वे सोमवार को कुशेश्वरस्थान (Kusheshwarsthan Assembly Seat) और तारापुर (Tarapur Assembly Seat) में चुनावी जनसभा को संबोधित करने के बाद पटना एयरपोर्ट (Patna Airport) पर पत्रकारों से बात कर रहे थे.

उन्होंने कहा कि विधानसभा चुनाव में दोनों सीटों पर एनडीए की जीत हुई थी, लेकिन ये दुख की बात है कि दोनों विधायकों की मृत्यु हो गई जिसके कारण उपचुनाव हो रहा है. उपचुनाव में सभी दलों के नेता प्रचार कर रहे हैं. हमलोग भी जनता के बीच जाकर अपनी बातों को रख रहे हैं. हमलोगों को काफी अच्छा रिस्पांस मिल रहा है. हमलोग जनता से आग्रह कर रहे हैं कि वे एनडीए के उम्मीदवारों को विजयी बनायें. निर्णय लेने का अधिकार जनता को है. जनता के मूड का आकलन पत्रकार ज्यादा बेहतर ढंग से कर सकते हैं.

दावा करने में क्या जाता है?

दोनों सीटें जीतने के आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव (Lalu Prasad Yadav RJD Supremo) के दावे के सवाल पर मुख्यमंत्री ने कहा कि दावा करने में किसी को कोई दिक्कत नहीं है. दावा करने में क्या जाता है? लोग जेल के अंदर और बाहर रहकर बातें करते रहते हैं. हमको इस पर कोई प्रतिक्रिया नहीं देनी है.

उन्होंने कहा कि हम जानते हैं कि जब उनलोगों को राज करने का मौका मिला तो उन्होंने जनता की सेवा नहीं की. उनलोगों का काम सिर्फ बोलते रहना है, जिसको जो मर्जी है वह बोलते रहें. हमको इससे कोई लेना-देना नहीं है, इन बातों को कोई महत्व नहीं देते हैं.

बिहार में बच्चों की कोमॉर्बिडिटिज की सूची जारी करने को लेकर पत्रकारों के सवाल पर मुख्यमंत्री ने कहा कि इन सब चीजों पर काम चल रहा है. इसको लेकर विभाग के द्वारा पहले भी कदम उठाये गये हैं और आगे भी जो जरुरी होगा वह किया जायेगा.

हम इन सब बातों का नोटिस नहीं लेते हैं

लालू प्रसाद यादव द्वारा कांग्रेस के बिहार प्रभारी पर की गयी टिप्पणी को लेकर मुख्यमंत्री ने कहा कि हम इन सब बातों का नोटिस नहीं लेते हैं. इन लोगों का काम ही यही है. उनलोगों का काम है कुछ-कुछ बोलते रहना, काम करना नहीं है. काम में कभी दिलचस्पी नहीं रही है, सिर्फ जुबान चलाते रहते हैं. ऐसा करने से उनलोगों को काफी पब्लिसिटी मिलती है. ऐसे लोग बिना काम किये पब्लिसिटी लेते हैं. ऐसे लोगों की बात पर हम कभी ध्यान नहीं देते हैं. अगर वे प्रचार में जाना चाहते हैं तो जायें. यह उनलोगों को तय करना है.

यह भी पढ़ें| आरजेडी के राज में सड़कों की हालत कितनी अच्छी थी सबको पता है – नीतीश

उपचुनाव में दोनों सीटें जीतने के बाद बिहार में सरकार बनाने के राजद के दावे के सवाल पर मुख्यमंत्री ने कहा कि जनता मालिक है. चुनाव परिणाम क्या होगा यह सबको पता चल जायेगा. हम इन लोगों पर कोई प्रतिक्रिया नहीं देते हैं.

हमारे लिए पूरा बिहार एक परिवार जबकि उनके लिए निजी परिवार ही सबकुछ

उपचुनाव में एनडीए की जीत को लेकर आश्वस्त होने के सवाल पर मुख्यमंत्री ने कहा कि हमलोगों के लिए पूरा बिहार एक परिवार है जबकि कुछ लोगों के लिए निजी परिवार ही सबकुछ है. हमलोगों और उनमें यही फर्क है। बयान देकर पब्लिसिटी लेने में हमारी दिलचस्पी नहीं रहती है.

एक पार्टी द्वारा सिर्फ जदयू को हराने को लेकर चुनाव लड़ने के सवाल पर मुख्यमंत्री ने कहा कि जिसको जो करना है वो करे. उनका जो भी उद्देश्य है उसको पूरा करने के लिए खूब लगे रहें, जो मन करे वही करते रहें. इस पर मेरी कोई प्रतिक्रिया नहीं है.