एक घटना को मुद्दा बनाकर विरोध करना सही नहीं है- मांझी

पटना (TBN रिपोर्ट) | बिहार के गोपालगंज हत्या कांड को लेकर राजद नेता तेजस्वी यादव ने बयानों की बौछार लगा दी है और नीतीश सरकार को घेरने में कोई कसर नहीं छोड़ी है. नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने तो इस हत्या कांड के आरोपी जदयू के विधायक को गिरफ्तार करने की मांग को लेकर धरने की चेतावनी तक दे डाली थी. इस पर हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा (हम) के प्रमुख और बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी ने तेजस्वी यादव पर निशाना साधा है.

जीतन राम मांझी ने कहा है कि एक घटना को मुद्दा बनाकर विरोध करना सही नहीं है. विपक्ष का काम है कि मुद्दे को उठाना लेकिन, इसमें एक पक्षीय भी नहीं होना चाहिए. नवादा, अररिया, जहानाबाद और गया में भी घटना हुई लेकिन उसका विरोध क्यों नहीं हुआ. एक घटना को मुद्दा बनाना यह साबित करता है कि विपक्ष आपसी विचार करके कोई फैसला नहीं ले रहा है. हम पहले से मांग करते आ रहे हैं कि महागठबंधन में शामिल दलों की कॉर्डिनेशन कमेटी बननी चाहिए ताकि हम मुद्दे पर बैठकर फैसला ले सकें.

हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा के प्रमुख ने कहा कि तेजस्वी अपने सामने किसी को नहीं समझ रहे हैं. तेजस्वी को गुरुमंत्र देने वाले भी वे लोग हैं जिन्होंने लालू यादव को जेल भिजवाया है. ऐसे लोग तेजस्वी के करीबी बने हुए हैं. वे लोग अगर दिशानिर्देश देंगे तो तेजस्वी लगातार सवालों के घेरे में आते रहेंगे. किसी की जाति देखकर कोई कदम उठाना यह सही नहीं है. हमें सभी जातियों को साथ लेकर आगे बढ़ना चाहिए. मांझी ने कहा कि प्रवासी मजदूर जिस हालात में बिहार लौट रहे हैं, उसको लेकर विरोध करना चाहिए. चाहे कोई भी मुद्दा हो हमलोग मिल जुलकर विरोध करेंगे तो ठीक रहेगा.