G–7 में भारत के शामिल होने का प्रस्ताव कूटनीतिक जीत – मंगल पांडेय

पटना (TBN रिपोर्ट) | अमेरिकी राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप ने विकसित देशों के समूह जी-7 (G-7) के सदस्‍य देशों का विस्‍तार करते हुए भारत का भी नाम शामिल होने का संकेत दिया है. अंतरराष्‍ट्रीय स्‍तर पर भारत के लिए यह काफी अहम है. इस मंच के जरिए अब भारत की साझेदारी विकसित देशों के साथ होगी. इससे वैश्विक स्‍तर पर भारत का दबदबा भी बढ़ेगा. यह भारत के लिए एक बड़ी कूटनीतिक जीत है.साथ ही मंच के जरिए अब भारत की साझेदारी विकसित देशों के साथ होगी. इससे वैश्विक स्तर पर भारत का दबदबा भी बढ़ेगा. अमेरिकी राष्ट्रपति ने जी-7 का स्वरूप काफी पुराना मानते हुए शनिवार को समूह का विस्तार करने का प्रस्ताव रखते हुए इसे समय की मांग बताया है.

बिहार के स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय ने कहा कि यह प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की लोकप्रियता का ही नतीजा है कि सात सदस्यीय देशों वाले संगठन में कनाडा, फ्रांस, जर्मनी, इटली, जापान, यूनाइटेड किंगडम और अमेरिका के बाद अब भारत को भी शामिल करने का प्रस्ताव रखा गया है.

शनिवार को इस विस्तार में एशिया के दो देशों भारत और दक्षिण कोरिया के अलावे ऑस्ट्रेलिया और रूस को भी जी-7 में शामिल करने का प्रस्ताव रखा है. 

स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय ने कहा कि प्रधानमंत्री के नेतृत्व में भारत दुनिया में अपना परचम लहराने में कामयाब हो रहा है. संयुक्त राष्ट्र महासंघ और विश्व स्वास्थ्य संगठन के बाद अब दुनिया के सबसे बड़े ताकतवर देश अमरीका ने भी भारत पर भरोसा जाता अन्य देशों को यह बता दिया है कि हर मुकाबले का सामना करने की क्षमता भारत में भी है.

बिहार के स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय ने यह जानकारी अपने ट्विटर पर साझा करते हुए ट्वीट किया है;

जी–7 में भारत के शामिल होने का प्रस्ताव कूटनीतिक जीत