नीतीश अगर पीएम बनें तो नहीं होगी संख्या बल की कमी; कुशवाहा की बीजेपी नेताओं को दो टूक

पटना (TBN – The Bihar Now डेस्क)| सोमवार को जदयू के वरिष्ठ नेता व पूर्व केन्द्रीय मंत्री उपेन्‍द्र कुशवाहा (Upendra Kushwaha) ने कहा कि वे नीतीश कुमार (Nitish Kumar) को पीएम मैटेरियल किसी को चिढ़ाने के लिए नहीं बोल है. कुशवाहा ने कहा कि नीतीश कुमार सच में पीएम मैटेरियल हैं. उन्होंने कहा था कि हम मुख्‍यमंत्री को पीएम मैटेरियल बोलकर किसी को चिढ़ा नहीं रहे.

उनके इसी बात को लेकर मुजफ्फरपुर से भाजपा सांसद अजय निषाद (Ajay Nishad BJP MP)ने कहा था कि केंद्र में भाजपा की सरकार बहुमत वाली सरकार है. भाजपा के पास 300 से अधिक सांसद हैं. इसलिए यदि कोई भी दल एनडीए छोड़ना चाहता है, तो उससे भाजपा पर कोई प्रभाव नहीं पड़ने वाला है.

अजय निषाद के कहने का मतलब था कि प्रधानमंत्री बनने के लिए 272 सांसदों के समर्थन की आवश्यकता होती है और जनता दल (यूनाइटेड) के अपने दम पर इतनी सीटें जीतने की संभावना नहीं है.

Also Read| हम मुख्‍यमंत्री को पीएम मैटेरियल बोलकर किसी को चिढ़ा नहीं रहे

अब उपेन्‍द्र कुशवाहा ने बीजेपी के नेताओं को दो टूक कह दिया कि अगर नीतीश कुमार प्रधानमंत्री बनते हैं तो ऐसे में संसद में “संख्या बल” की कोई समस्या नहीं होगी.

उन्होंने कहा कि हम वर्तमान में प्रधानमंत्री पद पर दावा नहीं कर रहे हैं. हम एनडीए के साथ हैं और नरेंद्र मोदी के नेतृत्व को स्वीकार करते हैं. लेकिन अगर लोग भविष्य की बात करें तो किसी भी चीज को असंभव कहकर खारिज नहीं किया जा सकता है.

उपेंद्र कुशवाहा ने कहा कि जब मैंने पहली बार नीतीश कुमार के पीएम मैटेरियल होने की बात कही थी तो आप में से कई लोगों ने मेरा उपहास किया. अब आप देख सकते हैं. उन्होंने कहा कि अक्सर ऐसा होता है कि मैं कुछ कहता हूं और बाद में यह एक व्यापक भावना बन जाती है.

उन्होंने कहा, “सभी ने देखा कि रविवार को जेडीयू की राष्ट्रीय परिषद की बैठक में पारित प्रस्तावों में भी कहा गया कि नीतीश कुमार शीर्ष पद के दावेदार नहीं हैं, लेकिन उनके नेता में इसके लिए सभी गुण विद्यमान हैं.

बता दें कि वर्षों से एनडीए का घटक रहे जदयू ने 2013 में नरेंद्र मोदी को प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार घोषित किए जाने पर नीतीश ने बीजेपी से रिश्ता तोड़ने का निर्णय लिया था. उस समय नीतीश कुमार को एक ‘धर्मनिरपेक्ष विकल्प’ के रूप में देखा गया था.