जमानत पर छूटे लालू तो NDA को तीन चौथाई बहुमत मिलना आसान

पटना (TBN रिपोर्ट) | बिहार के उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने लालू यादव पर तंज कसते हुए कहा है कि यदि 2020 के विधानसभा चुनाव से पहले लालू प्रसाद यादव जमानत पर छूट जाते हैं, तो एनडीए के लिए तीन चौथाई बहुमत पाकर 2010 का चुनाव परिणाम दोहराना बेहद आसान हो जायेगा. आगे उन्होंने कहा कि उस समय लालू यादव जेल से बाहर थे और राजद मात्र 22 सीटों पर सिमट कर रह गयी थी. राष्ट्रीय जनता दल (राजद) की नेता प्रतिपक्ष का पद पाने की भी हैसियत नहीं थी.

सुशील कुमार मोदी ने कहा है कि लालू यादव अगर जनता के बीच रहते हैं, तो राजद के 15 साल के भयावह शासनकाल की याद दिलाने में हमें कोई मेहनत नहीं करनी पड़ेगी. आगे उन्होंने कहा कि राजद शासनकाल के दौरान 1990 से 2004 तक जिस तरह से सड़कें जर्जर हुईं, शहर-गांव अंधेरे में डूबे थे, हत्या-अपहरण- नरसंहार की घटनाओं के कारण लोगों का जीना दूभर हो गया था और लाखों लोगों को महज दो वक्त की रोटी के लिए बिहार से पलायन तक करना पड़ गया था, उसकी याद ताजा कराने में लालू प्रसाद यादव से बड़ा स्टार प्रचारक और कौन हो सकता है?

उपमुख्यमंत्री ने कहा है कि एनडीए ने हमेशा गरीबों की सेवा और विकास के काम पर वोट मांगे, इसके फलस्वरूप जनता ने झोली भर कर आशीर्वाद दिया. लालू यादव के जेल में रहने या उनको जमानत मिलकर बाहर आने से ज्यादा फर्क नहीं पड़ेगा.

सुशील मोदी ने कहा कि 1000 करोड़ के चारा घोटाले के 4 मामलों में पारदर्शी और लंबी न्यायिक प्रक्रिया के बाद लालू प्रसाद यादव को जेल की सजा दी गयी थी. अब उनको जमानत देना या न देना ये अदालत का काम है.

आगे उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय जनता दल अक्टूबर में उनके पक्ष में फैसला आने की बात किस आधार पर कह सकता है? राजद ऐसी बयानबाजी करके एकतरफ न्यायपालिका पर राजनीतिक दबाव बनाना चाहती है वहीँ दूसरी तरफ दल छोड़ने वालों की भगदड़ को रोकना चाहती है. उनके ये दोनों ही मकसद कभी पूरे नहीं होंगे.