अगर चिराग साथ रहते तो सबको लाभ मिलता – तारकिशोर

पटना (TBN – The Bihar Now डेस्क)| बिहार के उपमुख्यमंत्री तारकिशोर प्रसाद ने एलजेपी में टूट प्रकरण पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा है कि यह उनका अंदरूनी मामला है और इस पर ज्यादा टिप्पणी करने की जरूरत नहीं है. लेकिन उन्होंने इसका संकेत दिया कि पिछले बिहार विधानसभा चुनाव में चिराग का फैसला गलत था.

बता दें कि रविवार देर रात यह खबर आई थी कि एलजेपी में टूट हो गई है और पशुपति पारस के नेतृत्व में पार्टी के पाँच सांसद चिराग से अलग हो गए हैं. सोमवार को इस बात की पुष्टि भी हो गई और पारस ने इस आशय की सूचना लोकसभा अध्यक्ष से मिलकर चिट्ठी के द्वारा दे दी. इस तरह एलजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष चिराग पासवान पार्टी में अकेले रह गए.

सोमवार को चिराग अपने चाचा पशुपति पारस से मिलने उनके दिल्ली स्थित सरकारी फ्लैट पर भी गए लेकिन आधे घंटे गेट पर तथा उसके बाद डेढ़ घंटे पशुपति पारस के घर पर रहने के बावजूद भी उनकी मुलाकात नहीं हुई. चिराग वहाँ से बिना मुलाकात के ही बैरन लौट गए.

इधर, एलजेपी में टूट की खबर पर राजनीतिक विवाद जारी है. जहां एक तरफ विपक्षी पार्टियों ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को इस टूट का जिम्मेदार बताया है, वहीं, सत्ताधारी दल के नेता चिराज को जिम्मेदार बता रहे हैं. उनका कहना है कि ये तो होना ही था. उनके अनुसार, बिहार विधानसभा चुनाव के समय से ही लोक जनशक्ति पार्टी के नेताओं के बीच शीर्ष नेतृत्व के प्रति असंतोष की भावना थी.

चिराग के फैसले को बताया गलत

चिराग़ का एनडीए से अलग होने के फैसले को गलत बताते हुए उपमुख्यमंत्री ने कहा कि सभी अगर साथ रहते तो सबको लाभ मिलता. हम और मजबूत होते लेकिन उन्होंने अलग होकर चुनाव लड़ने का फैसला लिया.

बिहार की राजनीति में कोई असर नहीं

तारकिशोर प्रसाद ने कहा है कि एलजेपी में टूट का बिहार की राजनीति पर असर पड़ने के सवाल उन्होंने कहा कि इसका बिहार की राजनीति में कोई असर नहीं पड़ने वाला है. केंद्रीय मंत्रिमंडल के विस्तार पर उन्होंने कहा कि सही समय पर निर्णय लिया जाएगा.

आरजेडी ने नीतीश को ठहराया जिम्मेदार

दूसरी तरफ लोक जनशक्ति पार्टी में टूट के लिए आरजेडी नीतीश कुमार को जिम्मेदार ठहरा रहा है. आरजेडी के विधायक शक्ति सिंह ने कहा कि “जिस तरह से लोग दूसरों के घरों में आग लगाने की कोशिश करते हैं, उन्हें नहीं भूलना चाहिए कि आग की लपटे उनके घरों को भी खाक कर सकती है”.

आप ये भी पढ़ें कांग्रेस को सुधार की जरूरत : सिब्बल

शक्ति ने नीतीश कुमार पर आरोप लगाते हुए कहा कि जेडीयू प्रलोभन देने वाली पार्टी है, धनबल का प्रयोग कर वो छोटी पार्टियों को तोड़ती है. इस पार्टी के नेताओं को लोकतंत्र में विश्वास नहीं है. ये जो आरसीपी टैक्स लेते हैं, वो इन्हीं संलब कामों में खर्च होता है. अब चिराग पासवान से ही पूछना होगा कि वो आगे क्या करने वाले हैं.
(सौ:एबीपी)