“मैं किसी का कोई मॉडल नहीं…” चिराग ने जदयू पर किया पलटवार

पटना (TBN – The Bihar Now डेस्क)| एलजेपी (रामविलास) प्रमुख चिराग पासवान ने जदयू पर पलटवार करते हुए कहा है कि मैं किसी का कोई मॉडल नहीं हूँ. चिराग ने जदयू अध्यक्ष ललन सिंह के उस बयान पर पलटवार किया है, जिसमें ललन ने बिहार में एक नए चिराग मॉडल के तैयार होने की बात कही थी.

रविवार शाम चिराग पासवान ने ललन सिंह के उस बयान को लेकर एक ट्वीट किया. उन्होंने लिखा, “मैं सकारात्मक राजनीति करता हूँ। किसी का कोई मॉडल नहीं हूँ। दूसरे का घर तोड़ने वाले के घर में ही आज फूट हो गयी है। बेहतर होगा कि वे कारणों को बाहर चौराहे पर ना तलाशे”.

बता दें, इससे पहले रविवार को JDU अध्यक्ष ललन सिंह ने इशारों इशारों में बीजेपी पर हमला करते हुए कहा था कि नीतीश कुमार के खिलाफ साजिश की जा रही थी. उन्होंने कहा था कि राज्य में पहले की तरह ही एक और चिराग मॉडल को तैयार करने की कोशिश हो रही है.

ललन सिंह ने कहा था कि नीतीश कुमार जी के विधायकों की संख्या जो 43 हुई है वो जनाधार के कम होने की वजह से नहीं है. वो अगर हुई है तो सिर्फ और सिर्फ साजिश की वजह से. इस साजिश का परिणाम है कि आज नीतीश जी 43 पर हैं और उस साजिश के प्रति अब नीतीश की पार्टी पूरी तरह से सतर्क है. अब कोई साजिश या षडयंत्र अब यहां चलने वाला नहीं है. एक मॉडल इस्तेमाल किया था 2020 के चुनाव में. उसे चिराग मॉडल कहा गया था. एक दूसरा भी चिराग मॉडल तैयार किया जा रहा था.

ललन ने कहा था कि कभी आगे मौका मिला तो बताएंगे कि षडयंत्र कहां और कैसे कैसे हुआ. कोई आदमी नीतीश जी के खिलाफ षड़यंत्र क्यों कर रहा है, ये समझ से परे है. नीतीश कुमार ने बिहार में विकास की एक नई लकीर खींची है. अगर आपको उसे मिटाना है तो उससे बड़ी लकीर खीचों, लेकिन षडयंत्र क्यों करते हो.

यह भी पढ़ें| बिहार में संकट में एनडीए? आरसीपी सिंह के इस्तीफे से बीजेपी-जद (यू) में बढ़ी दरार !

उन्होंने आगे कहा कि जेडीयू केंद्रीय मंत्रीमंडल में शामिल नहीं होगा. नीतीश कुमार जी ने 2019 में कहा था कि हम केंद्रीय मंत्रीमंडल में शामिल नहीं होंगे, हमारी पार्टी आज भी उसी स्टैंड पर खड़ी है.

ललन ने मीडिया से कहा कि आरसीपी सिंह 2021 में केन्द्रीय सरकार में क्यों शामिल हुए थे, उनसे ही पूछिए. नीतीश जी तो 2019 में ही कह चुके थे कि सरकार में शामिल नहीं होंगे. मैं पहले भी कह चुका हूं कि अगर मुख्यमंत्री जी किसी को कोई जिम्मेदारी देते हैं तो उनके फैसलों में हस्तक्षेप नहीं करते हैं. ऐसे में 2021 राष्ट्रीय अध्यक्ष आरसीपी सिंह थे, अब ये उनका फैसला था. लिहाजा जवाब भी उन्हें देना होगा.

बता दें कि बिहार सीएम नीतीश कुमार के नाराज होने के बाद जदयू छोड़ने के एक दिन बाद आरसीपी सिंह ने उन पर निशाना साधते हुए कहा वे बदले की भावना से भरे हुए हैं. जदयू के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष और नीतीश कुमार के करीबी रहे आरसीपी सिंह ने कहा कि वह इसलिए इतना नीचे गिर गए और मेरी बेटियों को निशाना बनाया. जदयू ने आरसीपी सिंह से उनकी बेटियों से जुड़ी संपत्तियों में ‘अनियमितताओं’ के बारे में सवाल पूछा था.

(इनपुट-न्यूज)