बिहार के पूर्व राज्यपाल और मध्यप्रदेश के राज्यपाल लालजी टंडन का निधन, नीतीश ने किया शोक व्यक्त

पटना / भोपाल (TBN – The Bihar Now डेस्क) | बिहार के पूर्व राज्यपाल और वर्तमान में मध्यप्रदेश के राज्यपाल लालजी टंडन का आज सुबह निधन हो गया. 85 साल के लालजी टंडन कई बीमारियों से ग्रसित थे. उन्हें किडनी और लीवर की बीमारी थी. 11 जून को लखनऊ के मेदांता हॉस्पिटल में उन्हें एडमिट किया गया था. लगातार उनकी तबीयत खराब होती जा रही थी. कल रात उन्हें वेंटिलेटर पर किया गया. लेकिन मंगलवार की सुबह उनका निधन हो गया.

12 अप्रैल 1935 को जन्मे लालजी टंडन जनसंघ से लेकर बीजेपी तक में कद्दावर नेता थे. पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय अटल बिहारी वाजपेई की काफी करीबी और उनके सहयोगी रह चुके थे. लालजी टंडन उत्तर प्रदेश की राजनीति में बड़ा हस्तक्षेप रखते थे. मंगलवार की सुबह लालजी टंडन के पुत्र आशुतोष टंडन ने उनके निधन की पुष्टि की.

लालजी टंडन को 2018 में बिहार का राज्यपाल नियुक्त किया गया था. इस दौरान शिक्षा के क्षेत्र में कई अभूतपूर्व काम उन्होंने किया था. साथ ही राज भवन के अंदर भी कई सुव्यवस्थित व्यवस्था स्थापित की थी. 2019 में उन्हें मध्यप्रदेश का राज्यपाल बनाया गया. राज्यपाल लालजी टंडन के निधन से राजनीतिक गलियारे में शोक की लहर है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी , गृह मंत्री अमित शाह, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह सहित बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, राज्यपाल फागू चौहान, डिप्टी सीएम सुशील मोदी ने उनके निधन पर गहरी शोक संवेदना प्रकट की है.

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने व्यक्त की शोक-संवेदना

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने लालजी टंडन के निधन पर गहरा शोक व्यक्त किया है और कहा है कि स्वo लालजी टंडन एक लोकप्रिय राजनेता, कुशल प्रशासक एवं प्रख्यात शिक्षाविद् थे. उनके निधन से राजनीतिक, सामाजिक एवं शैक्षणिक
जगत को अपूरणीय क्षति हुई है.

मुख्यमंत्री ने दिवंगत आत्मा की चिर शांति तथा उनके परिजनों को दुःख की इस घड़ी में धैर्य धारण करने की शक्ति प्रदान करने की ईश्वर से प्रार्थना की है.