पप्पू यादव पर FIR दर्ज

  

पटना (TBN डेस्क)  बिहार के बाहरी राज्यों में फंसे हुए मजदूरों को घर वापसी की मांग के मुद्दे को लेकर मंगलवार को जन अधिकार पार्टी (जाप) के अध्यक्ष और मधेपुरा के पूर्व सांसद पप्पू यादव ने लोगों से आह्वान कर जुटने के लिए कहा जिसके बाद दक्षिणी दिल्ली में सैकड़ों बिहारी प्रवासी मजदूर सड़क पर उतरकर सरकार के खिलाफ नारेबाजी करते हुए घर वापसी की मांग करने लगे.

इस मामले में दिल्ली पुलिस ने पूर्व सांसद पप्पू यादव के खिलाफ मामला दर्ज किया है. दिल्ली पुलिस ने आईपीसी 188,31 डिज़ास्टर मैनेजमेंट एक्ट और 3 पेनेडेमिक एक्ट के तहत केस दर्ज किया है.

अमर कॉलोनी पुलिस स्टेशन में दर्ज हुए इस एफआईआर पर बोलते हुए पप्पू यादव ने कहा कि लाचार व गरीब मजदूरों की आवाज उठाने के लिए मुझ पर मामला दर्ज किया गया है. मैं एक बात आज स्पष्ट रूप से कह देना चाहता हूं, यदि बिहार और बिहारी की आवाज उठाने के लिए मुझे फांसी भी हो जाये तो मैं हंसते-हंसते उसको स्वीकार कर लूंगा लेकिन अपने बिहारी भाई-बहनों को परेशान होते नहीं देखूंगा.

पूर्व सांसद पप्पू यादव ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा किए गए 20 लाख करोड़ के पैकेज पर कहा कि 2015 में बिहार के लिए सवा लाख करोड़ के पैकेज की घोषणा की थी मोदी जी ने. लेकिन आज तक वो नहीं मिला. किसानों, गरीबों और प्रवासी मजदूरों की बात क्यों नहीं करते? अब सपना बेचना कर दीजिए प्रधानमंत्री जी और हकीकत में आइए.

पप्पू यादव ने बताया कि दिल्ली के सांसद संजय सिंह से हमने बात की उन्होंने जानकारी दी है कि 15 तारीख को मजदूर स्पेशल ट्रेन सहरसा, भागलपुर, मुज़फ्फरपुर, दरभंगा, खगड़िया और पूर्णिया जाएगी.

जाप अध्यक्ष पप्पू यादव ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर निशाना साधते हुए कहा कि नीतीश जी आपने तो प्रधानमंत्री को 31 मई तक लॉकडाउन बढ़ाने का सुझाव दे दिया. जब इतने दिनों में आप कुछ नहीं कर पाए तो आगे क्या करेंगे? बिहार में अभी तक सिर्फ 40,000 जांच हुए है और क्वारंटाइन सेंटर्स की स्थिति बदहाल हैं.