बोचहां: EVM में कैद हुआ 13 प्रत्याशियों का भाग्य, उपचुनाव संपन्न

बोचहां / मुजफ्फरपुर (TBN – The Bihar Now डेस्क)| बिहार के मुजफ्फरपुर जिले की बोचहां विधानसभा सीट पर उपचुनाव संपन्न हो गया है. मंगलवार शाम 6 बजे तक यहां 59.20 फीसदी वोटिंग हो चुकी थी.

राज्य के मुख्य निर्वाचन अधिकारी के कार्यालय से प्राप्त जानकारी के अनुसार बोचाहन (अनुसूचित जाति आरक्षित) विधानसभा क्षेत्र में मंगलवार को शांतिपूर्ण तरीके से मतदान संपन्न हुआ और शाम छह बजे तक करीब 59.20 मतदाताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया. बोचाहन विधानसभा क्षेत्र के उपचुनाव के लिए कुल 350 मतदान केंद्र बनाए गए थे, जिनमें से 54 मतदान केंद्र केवल महिला मतदाताओं के लिए थे. सभी मतदान केंद्रों पर केंद्रीय पुलिस बल तैनात किया गया था.

2020 के मुकाबले इस बार कम मतदान हुए. 2020 में यह 65.19 प्रतिशत था. माना जा रहा है कि भीषण गर्मी के कारण मतदान प्रतिशत में गिरावट आई है. चुनाव संपन्न होने के बाद कुल 13 प्रत्याशीयों का भाग्य ईवीएम में कैद हो गया.

रिटर्निंग ऑफिसर के कार्यालय के अनुसार इस उपचुनाव के लिए मतदान के दौरान कुल 12 शिकायतें प्राप्त हुईं, जिनका समाधान कर दिया गया.

बोचहां विधानसभा क्षेत्र में सामान्य मतदाताओं की कुल संख्या 2,90,544 और सेवा मतदाताओं की कुल संख्या 411 है.

कुल 13 प्रत्याशी थे मैदान में

बोचहां उपचुनाव में 10 पुरुष और 3 महिला प्रत्याशी ने किस्मत आजमाई है. बीजेपी से बेबी कुमारी, आरजेडी से अमर पासवान, वीआईपी से गीता देवी और कांग्रेस से तरुण कुमार समेत सभी 13 प्रत्याशीयों के भाग्य का फैसला अब मतगणना के बाद होगा. मालूम हो कि 16 अप्रेल को वोटों की गिनती होनी है. ऐसे में सबकी नजर नतीजे पर है.

यह भी पढ़ें| बोचहां में बीजेपी ने उतारी स्टार प्रचारकों की फौज

बता दें कि बोचहां सुरक्षित सीट है और यहां त्रिकोणीय मुकाबला होने की संभावना है. बीजेपी (BJP), आरजेडी (RJD) और वीआईपी (VIP) उम्मीदवार के बीच कांटे की टक्कर है. तीनों दमदार कैंडिडेट हैं. कोई किसी से कम नहीं हैं. सबकी अपनी-अपनी ताकत है. ऐसे में परिणाम क्या ये कहना कठिन है.

वीआईपी की उम्मीदवार डॉक्टर गीता वहां से नौ बार के विधायक रहे रमई राम की बेटी हैं. रमई राम की इस क्षेत्र में अच्छी पकड़ है, जिसका लाभ डॉक्टर गीता को मिलेगा. आरजेडी के उम्मीदवार अमर पासवान के साथ जनता की सहानुभूति है. उनके पिता मुसाफिर पासवान वीआईपी के विधायक थे और उन्हीं के निधन से उपचुनाव हो रहा है. वहीं, बीजेपी उम्मीदवार बेबी कुमारी के भी हजारों समर्थक हैं.

इस उपचुनाव में कांग्रेस के अलावा चार निर्दलीय और असदुद्दीन ओवैसी की एआईएमआईएम समेत कुछ अन्य छोटी पार्टियों के उम्मीदवार भी अपनी किस्मत आजमा रहे हैं.

(इनपुट-एबी)