बच्चों का भविष्य बर्बाद कर रहा बिहार का शिक्षा विभाग – आप

पटना (TBN – The Bihar Now डेस्क)| ‘आप’ (AAP) ने कहा है कि शिक्षा विभाग राज्य के बच्चों का भविष्य खराब कर रहा है. पार्टी के द्वारा मंगलवार को जारी एक प्रेस विज्ञप्ति में बताया गया है कि शिक्षा से ही बिहार के बच्चों तथा बिहार का भविष्य बदल सकता है, लेकिन बिहार के शिक्षा विभाग की सुस्ती और लापरवाही देख के लगता है की शिक्षा का 16% बजट एक मात्र जुमला साबित हो रहा है.

विज्ञप्ति में पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता गुलफिसा यूसुफ (AAP State spokesperson Gulfisa Yusuf) ने बताया कि कटिहार जिले के मनिहारी ब्लॉक (Manihari Block of Katihar District) के सरकारी स्कूल से एक तस्वीर सामने आई है जिसमें, एक ही ब्लैक बोर्ड पर उर्दू और हिंदी की पढ़ाई कराई जा रही है.

यूसुफ ने कहा है कि आदर्श मिडिल स्कूल के दो अलग-अलग क्लास के बच्चे एक ही क्लास में बैठने को मजबूर हैं. इससे भी बड़ी चिंता की बात ये है कि अलग-अलग क्लास के बच्चे एक ही ब्लैक बोर्ड के आधे आधे हिस्से में पढ़ाई कर रहे हैं.

उन्होंने कहा कि यह तस्वीर राज्य में शिक्षा की गुणवक्ता और स्कूल की इन्फ्रास्ट्रक्चर दोनों की असलियत को जनता के सामने रख दिया है और शिक्षा विभाग के किताबी आंकड़े और जुमलेबाजी से भरे वादे को झूठा साबित कर दिया है.

यह भी पढ़ें – और इस तरह जज के घर हुई दिन-दहाड़े डकैती

प्रदेश प्रवक्ता ने आगे कहा है कि शिक्षा बच्चों का मौलिक अधिकार है, ये संविधान के द्वारा बच्चों को प्राप्त है, इसीलिए सरकार को अपने दायित्व का निर्वाह ईमानदारी से करना चाहिए.

गुलफिसा यूसुफ ने आगे कहा कि बिहार शिक्षा विभाग दिल्ली के सरकारी स्कूलों से कुछ सीख सकती है और बिहार को भी क्वालिटी एजुकेशन दे सकती है. बस सरकार की नियत साफ होनी चाहिए.

क्या है मामला

बताते चलें, डिप्टी CM तारकिशोर प्रसाद के गृह जिला कटिहार से बिहार की शिक्षा व्यवस्था की पोल खोलता एक वीडियो सामने आया है. एक ही कक्षा में एक से पांचवीं तक के बच्चे पढ़ रहे हैं. उन्हें तीन शिक्षक पढ़ा भी रहे हैं. कक्षा के एक ही ब्लैकबोर्ड पर दो भाषाओं यानी हिन्दी और उर्दू की पढ़ाई हो रही है.

वीडियो मनिहारी के उर्दू प्राथमिक विद्यालय का है. दो शिक्षक एक ही ब्लैकबोर्ड पर पढ़ा रहे हैं तो दूसरी शिक्षिका छड़ी से बच्चों को संभालती दिख रही हैं. क्लास में इतना शोर हो रहा है कि न तो कुछ सुनाई दे रहा हैं और न ही कुछ समझ आ रहा है.

(इनपुट-विज्ञप्ति)