अर्थव्यवस्था में हो रहा है सुधार

पटना (TBN रिपोर्ट) | सम्पूर्ण भारत में लॉकडाउन के चलते देश की अर्थव्यवस्था पर बुरा प्रभाव पड़ा है, लेकिन अब लॉकडाउन खुलने के बाद से देश की अर्थव्यवस्था में सुधार हो रहा है. इसके बारे में जानकारी देते हुए बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने बताया कि 2 महीने से भी अधिक समय तक लाॅकडाउन रहा लेकिन अब अर्थव्यवस्था की गाड़ी धीरे-धीरे पटरी पर आने लगी है.

उपमुख्यमंत्री ने कहा कि अप्रैल में प्रतिदिन औसतन 135.80 करोड़ का माल, वहीँ मई में दोगुना से ज्यादा 310.63 करोड़ का तो जून के मात्र 9 दिनों में 427.69 करोड़ का माल बाहर से बिहार में बिकने के लिए आया. इसी प्रकार कर संग्रह भी अप्रैल की तुलना में मई में तीनगुना से ज्यादा की वृद्धि देखने को मिली है. 

उपमुख्यमंत्री ने कहा कि अप्रैल में बाहर से 4,074 करोड़ का माल बिकने के लिए बिहार आया जिनमें मुख्य रूप से खाद्य सामग्री,दवा, चिकित्सा उपकरण व उर्वरक आदि थे इसी तरह से मई में दुगुना से ज्यादा 9,630 करोड़ का माल बिहार आया जिनमें आयरन एंड स्टील, इलेक्ट्रिकल सामान, सीमेंट, कपड़ा और वाहन आदि 6568 करोड़ के शामिल थे  इस सेक्टर को निर्माण कार्य शुरू होने का लाभ प्राप्त हुआ है.

सुशील मोदी ने बताया कि पिछले साल के अप्रैल माह की तुलना में इस साल अप्रैल में कर संग्रह में 81.61 फीसदी की कमी थी वहीं मई में काफी सुधार देखने को मिला और  यह कमी मात्र 42.14 प्रतिशत की रही. अप्रैल 2020-21 में वाणिज्य कर, ट्रांसपोर्ट, निबंधन, खनन और भू-राजस्व से जहां 467.61 करोड़ का कर संग्रह हुआ था वहीं मई में यह करीब तीनगुना बढ़ कर 1317.72 करोड़ रहा है. 

उपमुख्यमंत्री ने कहा कि अप्रैल में निबंधन से मात्र 4 करोड़ तो मई में 60.78 करोड़, ट्रांसपोर्ट में 31 करोड़ तो मई में 60 करोड़ और वाणिजय कर में 256.21 करोड़ की जगह मई में 693.90 करोड़ का संग्रह हुआ है, जो यह दर्शा रहा है कि अब अर्थव्यवस्था गति पकड़ रही है और अर्थव्यवस्था में सुधार होता दिख रहा है.