रालोसपा को बड़ा झटका, जदयू में विलय से ठीक पहले आरजेडी में शामिल हुए दर्जनों नेता

पटना (TBN – The Bihar Now डेस्क)| शुक्रवार को उपेंद्र कुशवाहा व उनकी पार्टी राष्ट्रीय लोक समता दल (रालोसपा) को जबरदस्त झटका लगा है. उपेन्द्र की पार्टी के तीन दर्जन नेता आरजेडी में शामिल हो गये.

इन तीन दर्जन नेताओं में रालोसपा के प्रभारी प्रदेश अध्यक्ष वीरेंद्र कुशवाहा समेत बिहार झारखंड के सभी पदाधिकारी शामिल हैं. ये सभी पदाधिकारी नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव की मौजूदगी में आरजेडी की सदस्यता ग्रहण की. पार्टी के बड़े चेहरों का जदयू में रालोसपा के विलय से पहले आरजेडी में जाना उपेन्द्र कुशवाहा के लिए बड़ा झटका माना जा रहा है.

तेजस्वी यादव के सामने आरजेडी के प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह ने रालोसपा के लगभग तीन दर्जन नेताओं को पार्टी की सदस्यता दिलाई. मौके पर नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि उपेंद्र कुशवाहा जी को छोड़कर उनकी पूरी पार्टी का आरजेडी में विलय हो गया है.

बता दें कि राजनीतिक हलचलों के मुताबिक राजधानी पटना में आगामी 14 मार्च को रालोसपा का विलय जदयू में होना है. विलय के इस मौके पर बिहार के सीएम नीतीश कुमार भी उपस्थित रह सकते हैं.

आप यह भी पढ़ेंबिहटा हवाई अड्डा होगा अन्तरराष्ट्रीय स्तर का

एक न्यूज एजेंसी के अनुसार, 2020 के बिहार विधानसभा चुनाव में मिली जबरदस्त हार के बाद रालोसपा प्रमुख उपेन्द्र कुशवाहा ने अपनी पार्टी का जदयू में विलय करने का फैसला लिया है. बहरहाल बकौल रालोसपा के एक वरिष्ठ नेता, पार्टी ने जदयू के साथ विलय पर पार्टी कार्यकर्ताओं से मंजूरी लेने के लिए 13-14 मार्च को पटना में दो दिवसीय बैठक बुलाई है. आरएलएसपी के महासचिव माधव आनंद ने कहा है कि 14 मार्च के बाद ही पार्टी का निर्णय सामने आएगा.

बिहार की राजनीति पर व्यापक प्रभाव पड़ेगा – जदयू

इधर जदयू के सूत्र बताते हैं कि आरएलएसपी का जदयू के साथ विलय होने से राज्य की राजनीति पर व्यापक प्रभाव पड़ेगा. पार्टी के एक वरिष्ठ नेता ने कहा है कि दोनों पार्टियों का विलय होने को अंतिम रूप दे दिया गया है. बस अब 14 मार्च के बाद इसकी औपचारिक घोषणा होनी बाकी है. उन्होंने उम्मीद जताया कि जदयू और आरएलएसपी के विलय से जदयू मजबूत होगी और राज्य की राजनीति पर गहरा प्रभाव पड़ेगा.

राजनीतिक हलकों में चर्चा है कि आरएलएसपी का जदयू में विलय के बाद उपेन्द्र कुशवाहा फिर से लगभग दो सालों बाद एनडीए में वापसी कर सकते हैं. इस विलय को लेकर बातचीत अंतिम दौर में है.

आरजेडी में शामिल होनेवाले आरएलएसपी नेता

शुक्रवार को आरएलएसपी छोड़ आरजेडी जॉइन करने वाले नेताओं के नाम इस प्रकार है – रालोसपा के प्रभारी प्रदेश अध्यक्ष वीरेंद्र कुशवाहा, प्रदेश प्रधान महासचिव निर्मल कुशवाहा, महिला प्रकोष्ठ की प्रदेश अध्यक्ष मधु मंजरी मेहता, झारखंड के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष विजय महतो, झारखंड युवा इकाई के अध्यक्ष सज्जन कश्यप, युवा प्रकोष्ठ के राष्ट्रीय महासचिव दिवाकर कुशवाहा, प्रदेश महासचिव डॉ. अमित कुमार, कृष्ण कुमार महतो व मो. इजहार, बेरोजगार प्रकोष्ठ के प्रदेश अध्यक्ष चंदन बिहारी, मुंगेर जिलाध्यक्ष जितेंद्र कुशवाहा, औरंगाबाद के बबलू कुशवाहा, नवादा के पूर्व जिलाध्यक्ष उमाशंकर कुशवाहा, बुद्धिजीवी प्रकोष्ठ के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष सुजीत चौधरी सहित करीब तीन दर्जन पदाधिकारी.