इस शब्द का प्रयोग न करे.. सीएम नीतीश ने पीएम के सामने दी सुशील मोदी को सलाह

पटना (TBN – The Bihar Now डेस्क) | शुक्रवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वीडियो कॉन्फ़्रेंसिंग के जरिये 516 करोड़ की लागत से निर्मित कोसी महासेतु का उद्धाटन किया. इस मौके पर PM मोदी के साथ साथ सीएम नीतीश कुमार, पियूष गोयल, नित्यानंद राय, गिरिराज सिंह, रवि शंकर प्रसाद, सुशील मोदी सहित कई वरिष्ठ नेता मौजूद रहे. उद्घाटन कार्यक्रम को संबोधित करते हुए डिप्टी सीएम सुशील मोदी ने पीएम मोदी की जमकर तारीफ की.

इसके साथ ही उन्होंने कहा कि लाखों प्रवासी मजदूरों को बिहार लाने में रेलवे ने काफी मदद की. जिसपर सीएम नीतीश कुमार ने तुरंत प्रतिक्रिया व्यक्त की. नीतीश ने प्रतिक्रिया करते हुए कहा कि कोरोना काल में लॉकडाउन में भी रेलवे ने हमारी काफी मदद की. उन्होंने कहा कि बिहार में फंसे लोगों को बिहार लानेमें रेलवे ने काफी मदद की है. सीएम नीतीश ने आगे कहा कि हमारे डिप्टी सीएम सुशील मोदी बता रहे थे कि लाखों प्रवासी मजदूरों को बिहार लाने में रेलवे ने काफी मदद की. लेकिन हम डिप्टी सीएम साहब से कहना चाहेंगे कि कोई प्रवासी नहीं है. ‘प्रवासी’ शब्द का प्रयोग न किया जाये. पूरा देश एक है और अगर कोई काम करने किसी दूसरे राज्य में जाता है तो वह प्रवासी नहीं है. श्रमिकों के आगे प्रवासी शब्द का प्रयोग न किया जाये.

कोसी महासेतु का उद्धाटन पर नीतीश कुमार काफी खुश नज़र आये. उन्होंने कहा “हम रेल मंत्री रहे है और उसके बाद बिहार का काम देख रहे है. इस पुल के निर्माण को लेकर हमलोगों ने काफी प्रयास किया है. यह मेरे लिए व्यक्तिगत ख़ुशी की बात है”.

आपको बता दें कि इस रेल पुल के शुरू होते ही निर्मली से सरायगढ़ की 298 किलोमीटर की दूरी घटकर महज 22 किलोमीटर रह जाएगी. अभी निर्मली से सरायगढ़ तक के सफर के लिए लोगो को दरभंगा-समस्तीपुर-खगड़िया- मानसी-सहरसा होते हुए 298 किमी की दूरी तय करनी होती है. इस नए पुल पर जून में ही ट्रेनों के परिचालन का ट्रायल सफल रहा है.