ब्रेकिंग: पूर्व रेल मंत्री ललित नारायण मिश्रा की हत्या की जांच नए सिरे से, दिल्ली हाईकोर्ट ने दिया ऑर्डर

नई दिल्ली / पटना (TBN – The Bihar Now डेस्क)| दिल्ली से एक बड़ी खबर सामने आई है. दिल्ली हाईकोर्ट ने पूर्व केंद्रीय रेल मंत्री ललित नारायण मिश्रा हत्याकांड मामले (Former Railway Minister Lalit Narayan Mishra murder case) में सीबीआई को फिर से जांच करने के निर्देश दिए हैं. कोर्ट ने यह आदेश स्व ललित नारायण मिश्रा के पोते वैभव मिश्रा की याचिका पर दिया है.

बता दें, पूर्व रेल मंत्री ललित नारायण मिश्रा 2 जनवरी 1974 को समस्तीपुर रेलवे जंक्शन पर एक बम ब्लास्ट में बुरी तरह घायल हो गए थे. उनपर बम से उस वक्त हमला किया गया जब वे समस्तीपुर रेलवे जंक्शन के प्लेटफार्म संख्या 2 पर समस्तीपुर से मुजफ्फरपुर के बीच बड़ी लाइन का उद्घाटन करने के लिए पहुंचे थे.

शाम के वक्त ललित बाबू ने उद्घाटन भाषण पूरा कर मंच से नीचे उतरने लगे. उनके साथ उनके छोटे भाई जगन्नाथ मिश्र थे. उसी समय वहां मौजूद दर्शकों की भीड़ में से किसी शख्स ने मंच की ओर बम उछाला. बम फटते ही ललित नारायण मिश्रा सहित कई लोग बुरी तरह घायल हो गए.

इस बम ब्लास्ट में घायल हुए कई लोगों को इलाज के लिए दरभंगा के एक बड़े मशहूर सर्जन डॉ सैयद नवाब के पास दरभंगा भेज दिया गया. लेकिन, ललित बाबू को दूर पटना भेजने का फैसला हुआ (?).

बुरी तरह से घायल ललित बाबू को जगन्ननाथ मिश्र के साथ एक ट्रेन में पटना के लिए रवाना किया गया. 132 किलोमीटर की दूरी पर स्थित दानापुर रेलवे स्टेशन पहुंचने में इस ट्रेन को 14 घंटे से ज्यादा लगाया गया. यह इस हत्याकांड से जुड़े सबसे अहम सवालों में से एक था. इस ट्रेन को यार्ड में खड़ा रखा गया. शंटिग की गई. समर्थकों ने कहा कि जानकर देर की गई.

इस बम हमले में ललित नारायण मिश्रा बुरी तरह घायल हो गए थे. दानापुर रेलवे अस्पताल में इलाज के दौरान दूसरे दिन 3 जनवरी 1974 को उनकी मौत हो गई थी. ललित नारायण मिश्रा की हत्या ने पूरे राजनीतिक महकमे में हड़कंप मचा दिया था.

Also Read | एनटीपीसी बाढ़ में दिव्यांगजन निःशुल्क कृत्रिम अंग वितरण समारोह का आयोजन

इस बम ब्लास्ट में ललित नारायण मिश्रा के अलावे एक MLC सूर्य नारायण झा सहित रेलवे विभाग में क्लर्क राम किशोर प्रसाद की मौत हुई थी. समस्तीपुर रेलवे पुलिस ने इस मामले में FIR दर्ज की थी जिसे बाद में जांच के लिए CID को सौंप दिया गया. फिर बिहार सरकार ने नया नोटिफिकेशन जारी कर केस की जांच सीबीआई को सौंप दी.

ललित नारायण मिश्रा के परिवार वाले शुरू से ही सीबीआई की जांच पर सवाल उठाते रहे हैं. इसी कड़ी में ललित नारायण मिश्रा के पोते वैभव मिश्रा ने दिल्ली हाई कोर्ट में मामले की फिर से जांच के लिए याचिका दायर की थी. इस याचिका को सुनने के बाद दिल्ली हाईकोर्ट के डिवीज़न बेंच ने सीबीआई को फिर से इस हत्याकांड मामले की नए सिरे से जांच का निर्देश दिया है.

हाईकोर्ट के इस फैसले के बाद वैभव मिश्रा ने खुशी जाहिर की है. उन्होंने कहा है कि इस ऑर्डर से उनके दादा की हत्या में शामिल असली हत्यारों का नाम सामने आएगा. उन्होंने कहा कि इससे उनके दादा के हत्या की सच्चाई भी सामने आएगी.