सीएम ने अपनी ‘साख’ को ‘राख’ में बदला : संजय जयसवाल

पटना (TNB – अनुभव सिन्हा)। मंगलवार 20 सितम्बर को राजस्व एवं भूमि सुधार विभाग (Revenue and Land Reforms Department) के जिन 4325 कर्मियों को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (CM Nitish Kumar) ने नियुक्ति पत्र दिया, उनका पूरा विवरण पिछले 2 अगस्त को ही विभाग के वेबसाइट पर डाल दिया गया था.

यानि, इन नियुक्तियों पर फैसला तब लिया गया था, जब नीतीश कुमार एनडीए सरकार (NDA Government) में मुख्यमंत्री थे. लेकिन अब इन नियुक्तियों का श्रेय मुख्यमंत्री द्वारा महागठबंधन की सरकार (Grand Coalition Government) को दिए जाने पर भाजपा ने कड़ी आलोचना की है.

सीएम अब ‘क्रेडिटजीवी’ होना चाह रहे हैं

प्रदेश अध्यक्ष डॉ संजय जायसवाल (BJP State President Dr. Sanjay Jaiswal) ने सरकारी नौकरी देने के नाम पर कहा कि सीएम अब ‘क्रेडिटजीवी’ होना चाह रहे हैं. पहले से नियुक्त कर्मचारियों को दोबारा नियुक्ति पत्र बांटकर जनता की आंख में धूल झोंकने का काम किया है, जिससे इनकी बची-खुची साख भी अब राख हो गई है.

उल्लेखनीय है कि तत्कालीन राजस्व एवं भूमि सुधार मंत्री राम सूरत राय (Ram Surat Rai) ने इन कर्मियों को पिछले 2 अगस्त को जिलों का आवंटन कर दिया था. संजय जयसवाल ने मुख्यमंत्री से पूछा कि क्या ये विवरण विभागीय वेबसाइट पर उपलब्ध नही हैं ?

ठगबंधन सरकार

मुख्यमंत्री के इस रवैये पर क्षोभ जाते हुए भाजपा प्रदेश अध्यक्ष ने सीएम को चुनौती दी कि एनडीए काल में तय हुई नौकरियों पर सीना चौड़ा करने के बजाय वह ठगबंधन सरकार की नौकरियों का ब्यौरा पेश करें.

यह भी पढ़ें| बिहारी पर बिहारी ही भारी…….!

उन्होंने कहा कि जिन्हें हम एनडीए राज में नौकरियां देना तय कर चुके थे, नीतीश कुमार उन बेरोजगारों के साथ छल कर रहे हैं. इनमें 1.15 लाख शिक्षकों और 1 लाख अन्य विभागों की नौकरियां शामिल थीं. पर, पीएम बनने की महत्वाकांक्षा पाले नीतीश कुमार ने अपने अधिकार का दुरुपयोग कर लगभग ढाई लाख नौकरियों को रोके रखा और अब उन्हीं नौकरियों का झांसा देकर इसे ठगबंधन सरकार की उपलब्धि बताने की ‘कुचेष्टा’ कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि अगर उसमें हिम्मत है तो ठगबंधन सरकार की नौकरियों का ‘वास्तविक ब्यौरा’ आम लोगों के बीच पेश करें.

उन्होंने कहा कि अपनी महत्वकांक्षा की आग में नीतीश कुमार ने न केवल बिहार के युवाओं के भविष्य को झुलसाया है बल्कि अब भतीजे को आगे बढ़ाने की बात कह कर इन्होने जदयू के हजारों कर्मठ कार्यकर्ताओं की उम्मीदों को भी जमींदोज कर दिया है.