CM ने लिए हैं ऐतिहासिक फैसले – सेतु

पटना (TBN रिपोर्ट) | मुख्यमंत्री नीतीश कुमार द्वारा आज बुलाई गयी उच्चस्तरीय समीक्षा बैठक में विभिन्न मुद्दों को लेकर दिशा निर्देश दिए गए. मुख्यमंत्री ने बिना बैंक खाता वाले प्रवासियों को भी एक हजार रुपए की सहायता देने का आदेश जारी किया है. सीएम नीतीश कुमार के इस  फैसले को ऐतिहासिक बताते हुए युवा जनता दल यूनाइटेड (जदयू) के प्रदेश प्रवक्ता ओमप्रकाश सिंह सेतु ने कहा है कि बिहार पहला राज्य है जिसने प्रवासियों की मदद के लिए इस तरह के कई फैसले लिए हैं.

ओमप्रकाश सिंह सेतु ने कहा है कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने निर्देश दिये थे कि बिहार आने वाले प्रवासियों को एक हजार रुपए उनके बैंक खाते में दिए जाएं. लेकिन उन्होंने समीक्षा में महसूस किया कि बड़ी संख्या में लौटे प्रवासियों के बैंक खाते तक नहीं है. जिस वजह से प्रवासी एक हजार की राशि से वंचित हो रहे थे.

आगे उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री को जानकारी मिलने के बाद उन्होंने बिना बैंक खाते वालों को भी एक हजार रुपये देने के निर्देश अधिकारियों को दिए हैं. सेतु ने कहा कि प्रवासियों की मदद के लिए सरकार और भी काम कर रही है. मुख्यमंत्री के निर्देश पर प्रवासियों के हर हाथ को रोजगार मुहैया कराने के लिए विभाग योजनाएं बना रहे हैं. अकेले मनरेगा से 20 लाख श्रमिकों को काम मिलेगा. अब तक साढ़े चार लाख से ज्यादा प्रवासियों के जॉब कार्ड बनाये गए हैं. इनमे अकेले कैम्प में 80 हजार से ज्यादा जॉब कार्ड बनाये गए हैं

ओमप्रकाश सिंह सेतु ने कहा है कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के निर्देश पर ही जीविका और शहरी आजीविका मिशन की ओर से राशन कार्ड से वंचित परिवारों का सर्वे कराकर अबतक साढ़े चार लाख लोगों को राशन कार्ड दिए गये हैं. महामारी कोडिड-19 से निपटने के बनाई गई बिहार आपदा प्रबंधन नीति की सराहना आज देश भर में हो रही है. बिहार के आपदा प्रबंधन मॉडल को अपनाने की पहल भी कई राज्य कर रहे हैं.

युवा जदयू के प्रदेश प्रवक्ता ने कहा कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने अपने कार्यो के बदौलत देश के सामने एक नजीर पेश की है. जिसकी सराहना चारों ओर हो रही है.