सीएम ने दी राजगीर मॉडल अपनाने की सलाह

जल-जीवन-हरियाली अभियान से संबंधित समीक्षा बैठक

पटना (TBN – The Bihar Now डेस्क) | नीतीश कुमार ने मंगलवार को जल-जीवन-हरयाली अभियान की समीक्षा की. इस समीक्षा बैठक में सीएम नीतीश कुमार ने जल-जीवन-हरयाली अभियान की सूचना प्रबन्धक प्रणाली एवं मोबाईल एप का लोकार्पण भी किया.

मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को निर्देश दिया कि राजगीर के ऑर्डिनेंस फैक्ट्री परिसर में जल संचयन हेतु बड़ा और सुंदर तालाब का निर्माण कराया गया है. इस मॉडल के आधार पर अन्य जिलों में भी पहाड़ों के किनारे किनारे तलहटी क्षेत्र में जल संचयन की संभावनाओं को तलाश कर इसी तरह सुन्दर निर्माण करायें. यानि, नीतीश कुमार ने अधिकारियों को यह स्पष्ट कर दिया कि राजगीर मॉडल को अन्य जिलों के पहाड़ी इलाकों में भी लागू करें.

सीएम नीतीश कुमार ने अधिकारियों को यह भी निर्देश दिया कि सार्वजनिक कुओं की मरम्मत का कार्य मार्च तक पूरा कर लें. सार्वजनिक चापाकल हर हाल में चालू कराये तथा इसके मेंटनेंस को लेकर लोक स्वास्थ्य अभियंत्रण विभाग लगातार काम करे. चापाकल एवं कुओं के किनारे सोख्ता का निर्माण करे.

सीएम नीतीश द्वारा इसके साथ ही सौर ऊर्जा के उपयोग एवं उसके उत्पादन तथा ऊर्जा की बचत के लिए लोगों को प्रेरित करने, स्ट्रीट लाइटों को जलाने के लिए सौर ऊर्जा का उपयोग करने का निर्देश दिया गया है. मुख्यमंत्री ने अतिक्रमण मुक्त कराए गए जल संचयन क्षेत्रों के किनारे बसे गरीब लोगों के पुनर्वास को लेकर भी व्यवस्था करने का निर्देश दिया है. जल-जीवन-हरियाली अभियान की विभिन्न योजनाओं पर तेजी से कार्य पूर्ण करने का भी निर्देश दिया गया है.