चिराग ने बिहार की बेटी को सम्मानित करने के लिए राष्ट्रपति को लिखा पत्र

पटना (TBN रिपोर्ट) | लोक जनशक्ति पार्टी के प्रमुख चिराग पासवान ने देश के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को पत्र लिख कर बिहार की बेटी ज्योति को सम्मानित करने का अनुरोध किया है. चिराग ने राष्ट्रपति को पत्र लिखकर कहा है कि दरंभगा की ज्योति की हिम्मत और हौसले के लिए उसे अगले गणतंत्र दिवस पर मिलने वाले साहसिक पुरस्कार से सम्मानित किया जाए.

चिराग पासवान ने राष्ट्रपति को पत्र लिखकर कहा है कि बिहार के दरभंगा जिले की  रहने वाली बिहार की बेटी ज्योति कुमारी ने महज पन्द्रह साल की उम्र में अपने घायल पिता को पुरानी सी साइकिल पर बैठाकर हरियाणा के गुरुग्राम से 1200 किलोमीटर की दूरी तय कर लॉकडाउन में दरभंगा से घर ले आयी बिहार के छोटे से गांव की ज्योति के हौसले की चर्चा  देश ही नहीं बल्कि विदेशों में भी हो रही है.

एलजेपी सुप्रीमो ने राष्ट्रपति से अनुरोध किया है कि ज्योति के साहसिक कार्य को देखते हुए उसे आने वाली आगामी 26 जनवरी के मौके पर राष्ट्रपति पुरस्कार ( साहसी पुरस्कार) से सम्मानित करने की कृपा करें. 

बता दें कि बिहार के दरभंगा के सिरहुल्ली गांव की रहने वाली ज्योति ने लॉकडाउन के दौरान अपने बीमार पिता को साइकिल पर बिठाकर गुड़गांव से दरभंगा तक लगभग 1200 किलोमीटर का सफर तय किया. जिसके बाद ज्योति की हिम्मत के चर्चे अखबार से लेकर सोशल मीडिया तक की सुर्खियां बन गए. यहाँ तक कि ज्योति के बुलंद हौंसलों की दास्तान अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की बेटी इवांका ट्रंप ने पढ़ी तो उन्होंने इसकी काफी सराहना की.

इसके साथ ही ज्योति की हिम्मत और बहादुरी की चर्चा विश्वभर में होने के बाद से उसकी मदद के लिये कई सामाजिक संस्थाएं आगे आयी हैं और विभिन्न राजनीतिक दलों के नेताओं ने भी ज्योति की सहायता के लिए मदद की पेशकश की हैं.