BJP MLC ने कहा- “छात्रों को वापस नहीं लाये तो होंगे 5 लाख वोट प्रभावित”

पटना (TBN रिपोर्ट) :-  लॉकडाउन की वजह से राजस्थान के कोटा में फंसे बिहार के छात्र और छात्राओं के मुद्दे पर भाजपा के विधानपार्षद संजय पासवान ने बिहार के मुख्यमंत्री को सलाह देते हुए कहा है कि मुख्यमंत्री का फर्ज बनता है कि कोटा, पुणे या अन्य किसी जगह पर फंसे बच्चों के वापस बिहार बुलाने की व्यवस्था करे.

संजय पासवान ने कहा है कि, “माना कि बिहार से बाहर फंसे बच्चों की संख्या सिर्फ  1000 है लेकिन इससे एक लाख परिवार प्रभावित हुए हैं, ऐसे में इन बच्चों के लिए सहानुभूति होनी चाहिए”. पासवान ने नसीहत देते हुए कहा कि, “यदि एक लाख की संख्या वाले इन परिवारों में पांच लोग भी हैं तो हमारा वोट पांच लाख का होता है तो ऐसे में हमारा पांच लाख वोट तो चुनाव के दौरान प्रभावित होगा”.

पासवान ने कहा है कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की ड्यूटी बनती है कि वो बच्चों को वापस बुलाएं. ऐसे नहीं करने से हमारा बहुत बड़ा राजनीतिक घाटा होगा. तीन मई से उन्हें हर हाल में बच्चों के वापस लाना होगा. इसी साल चुनाव होने वाले हैं और मध्य वर्ग का वोट हमारे लिए अहम है. उन्होंन कहा कि हर मध्यमवर्गीय परिवार का एक बच्चा कोटा में जरूर पढ़ता है. इसीलिए इस विषय पर गंभीरता से सोचना होगा”.

बता दें लॉकडाउन के चलते बिहार के 17 लाख से ज्यादा लोग दूसरे राज्यों में फंसे हुए हैं. बिहार के करीब 11 हजार छात्र और छात्राएं राजस्थान के कोटा में भी फंसे हैं. विपक्ष के राष्ट्रीय जनता दल (राजद) समेत सभी राजनीतिक दल बाहरी राज्यों में फंसे हुए लोगों को लेकर सरकार पर लगातार हमले कर रहे हैं. वहीँ राज्य सरकार अब तक लॉकडाउन का हवाला देकर इस मामले को टालती रही है.