ब्रेकिंग: बीजेपी विधायक ललन ने लालू यादव पर किया निगरानी थाने में मुकदमा

पटना (TBN – The Bihar Now डेस्क) | बड़ी खबर राजधानी से आ रही है जहां बीजेपी विधायक ललन पासवान ने आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के खिलाफ पटना स्थित निगरानी (Vigilence) थाना में एफआईआर दर्ज की है. लालू यादव द्वारा ललन पासवान को कथित रूप से जेल के अंदर से फोन कर विधानसभा अध्यक्ष चुनाव में महागठबंधन को मदद करने के मामले में यह एफआईआर दर्ज की गई है.

इसकी सूचना बीजेपी नेता सुशील कुमार मोदी ने ट्वीट कर दी है. यह एफआईआर भ्रष्टाचार अधिनियम की रोकथाम के तहत लालू के खिलाफ दर्ज की गई है. ललन ने अपने एफआईआर में आरजेडी सुप्रीमो द्वारा उनको की गई फोन कॉल को आधार बनाया है. ललन ने अपने एफआईआर में यह लिखा है –

थाना अध्यक्ष,
निगरानी थाना, पटना

मैं ललन कुमार, पिता स्व. शिवनाथ पासवान, निवासी- बारा, थाना- ईषीपुर-बाराहाट, जिला भागलपुर, विधायक, पीरपैंती, विधान सभा क्षेत्र संख्या 154, नवनिर्वाचित सदस्य, बिहार विधान सभा 2020, आज दिनांक – 26.11.2020 को आपको यह लिखित सूचना दे रहा हूँ कि दिनांक – 24.11.2020 को समय 6.19 अप. मेरे मोबाइल संख्या – 9771710340 पर मोबाइल संख्या – 8051216302 से एक टेलीफोन आया. फोन उठाने पर दूसरी तरफ से बताया गया कि मैं लालू प्रसाद यादव बोल रहा हूँ, तब मैंने समझा की शायद चुनाव जीतने के कारण वो मुझे बधाई देने के लिए फोन किये है, इसी लिए मैंने उनको कहा, आपको चरण स्पर्श. उसके बाद उन्होंने मुझे कहा कि वो मुझे आगे बढ़ाएंगे और मुझे मंत्री पद दिलवाएंगे, इसीलिये दिनांक- 25.11.2020 को बिहार विधान सभा अध्यक्ष की चुनाव में मैं अनुपस्थित होकर अपना वोट नहीं दूँ. उन्होंने यह भी बताया की इस तरह से वो कल NDA की सरकार गिरा देंगें. इसपर मैंने उन्हें कहा कि मैं पार्टी का सदस्य हूँ, ऐसे करना मेरे लिए गलत होगा, उसपर उन्होंने मुझे पुनः प्रलोभन दिया और कहा कि आप सदन से गैरहाजिर हो जाइए और कह दीजिये कि कोरोना हो गया है बाकि हम देख लेंगें.

इस तरह लालू प्रसाद यादव जो कि राष्ट्रीय जनता दल के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं एवं रांची में चारा घोटाला केस में सजायाफ्ता हैं, उन्होंने जानबूझ कर सोची समझी साजिश के तहत मुझे राजनीति में आगे बढ़ाने एवं मंत्री बनाने का लालच देकर मुझे विधायक जो एक जन सेवक (पब्लिक सर्वेंट) होता है उसका वोट खरीदने एवं राष्ट्रीय जनतांत्रिक पार्टी की सरकार को गिराने के लिए जेल के अंदर से फोन लगाकर मुझसे मोबाइल फोन पर सम्पर्क किया एवं मेरा वोट अपने एवं अपनी पार्टी के महागठबंधन के पक्ष में लेने की कोशिश की एवं मुझसे भ्रष्ट आचरण कराने का प्रयास किया.

अतः श्री लालू प्रसाद यादव के विरुद्ध भारतीय दंड विधान एवं भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम, 1988 की सुसंगत धाराओं के अंतर्गत मुकदमा दर्ज कर कानूनी कार्रवाई की जाय.
भवदीय,
(ललन कुमार)

बता दें कि कल शुक्रवार को लालू प्रसाद यादव की जमानत पर रांची हाईकोर्ट में सुनवाई होनी है. विपक्ष इस मामले को लालू को बेल न मिले, इसपर तहजीब देते हुए बीजेपी पर साजिश रचने का आरोप लगा रही है.