बीजेपी एमएलए ज्ञानू ने फोड़ा बम, कहा पार्टी कोटे के मंत्री घूसखोर

पटना (TBN – The BIhar Now डेस्क)| बुधवार को राज्य में हुए करीब पंद्रह सौ से ज्यादा हुए सरकारी तबादलों पर सत्ताधारी दल के नेता व बीजेपी विधायक ज्ञानेन्द्र सिंह ज्ञानू (Gyanedra Singh Gyanu) ने सरकार के मंत्रियों पर जबरदस्त आरोप लगाते हुए हमला बोला है. उन्होंने कहा है कि इन सभी तबादलों में बीजेपी (BJP) कोटे के मंत्रियों ने जमकर घूस लिया है.

इन तबादलों पर विपक्ष के हमलों से पहले ही बीजेपी के ही विधायक द्वारा इस तरह के आरोप ने बिहार की सियासी तापमान बढ़ा दिया है. ज्ञानू ने ये भी कहा कि इन तबादलों में जदयू (JDU) कोटे के मंत्रियों ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar CM) के डर से कम घूस लिया है.

भाजपा कोटे के मंत्रियों ने जमकर लिया घूस

बीजेपी के बाढ़ विस क्षेत्र के बीजेपी विधायक ज्ञानेन्द्र सिंह ज्ञानू ने नीतीश मंत्रिमंडल मे अपनी ही पार्टी कोटे के मंत्रियों के बारे में कहा कि बुधवार को हुए तबादलों में उन सब ने जमकर पैसा लिया है.

ज्ञानू ने अपनी बातों के लिए उन अफसरों से ही मिली खबर को आधार बनाया है है, जिनसे पैसे लेकर उनका मनमाफिक ट्रांसफर किया गया है. उन्होंने भाजपा के 80 प्रतिशत मंत्रियों द्वारा घूस लेने की बात कही है. उन्होंने कहा कि मंत्रियों के शागिर्दों द्वारा अफसरों को बुला-बुला कर उनसे पैसों की मांग की गई. दूसरी ओर उन्होंने कहा है कि नीतीश कुमार के डर से जदयू कोटे के ज्यादातर मंत्रियों ने पैसा नहीं लिया है.

पहले भी ज्ञानू ने दिखाएं हैं बगावती तेवर

यह पहली बार नहीं है जब ज्ञानू अपनी ही पार्टी पर हमला किया है. याद करें, उन्होंने पिछले विस चुनाव के बाद नीतीश सरकार गठन के समय भी अपने को मंत्री नहीं बनाये जाने पर बीजेपी पर आरोप लगाया था. उस वक्त उन्होंने मंत्रिमंडल में बीजेपी कोटे से मंत्री बनाए जाने में जातीय समीकरणों का ख्याल नहीं रखने का आरोप लगाया था.

आप यह भी पढ़ें – चिराग बदकिस्मत, विरासत में मिली पार्टी और सियासत नहीं संभाल पाए – खालिद

आज भी ज्ञानू ने भाजपा केन्द्रीय नेतृत्व से बिहार में घूस खाने वाले मंत्रियों को हटाने की मांग की है. बता दें कि उन्होंने 2015 में जदयू छोड़कर बीजेपी का दामन थामा था.

वहीं दूसरी तरफ ज्ञानू ने संकेत दिए कि वो नीतीश कुमार के प्रति नरम हैं. बताते चलें कि एक समय वे नीतीश कुमार के बेहद करीबी माने जाते थे. लेकिन जब उन्हें लगा कि उनको जदयू में सम्मान नहीं मिल रहा है, तो उन्होंने पार्टी छोड़कर बीजेपी में शामिल हो गए थे. अब फिर से बीजेपी में भी उन्हें खुद को सम्मान नहीं मिलने का आभास हो रहा है. इसी कारण अब वे भाजपा के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है.