BJP ने दी मुकेश साहनी को 11 सीटें, सहनी की हुई चांदी

पटना (TBN – The Bihar Now डेस्क) | बिहार विधानसभा चुनाव के ऐलान होने के बाद पार्टियों में फेर बदल जारी है. सीट शेयरिंग को लेकर लगातार नामों का ऐलान हो रहा है. इसी बीच बीते शनिवार को RJD ने प्रेस कांफ्रेंस आयोजित करके महागठबंधन के घटक दलों के बीच सीट शेयरिंग के बारे में बताया था. सीट शेयरिंग को लेकर आयोजित इस प्रेस कांफ्रेंस के दौरान ही वीआईपी पार्टी के चीफ मुकेश सहनी ने न केवल बगावत का बिगुल फूंका बल्कि महागठबंधन में छोड़ने का भी ऐलान कर दिया. मुकेश सहनी ने भरे प्रेस कॉन्फ्रेंस में RJD पर पीठ में छुरा भोंकने का आरोप लगाया. मुकेश सहनी के इस कदम के बाद से बिहार की सियासत में अचानक से सरगर्मी बढ़ गई. जिसके बाद मुकेश सहनी ने RJD का दामन छोड़ BJP का हाथ थाम लिया.

वर्तमान परिस्थिति में सहनी अब नीतीश कुमार को नेता मानते है. NDA में शामिल होने के बाद आज सहनी ने कहा कि हमने 2014 में नरेंद्र मोदी को प्रधानमंत्री बनाने के लिए काम किया था. 2015 में भी बिहार में NDA सरकार बनाने के लिए पूरी मुश्तैदी से लगे रहे. BJP में शामिल होने के बाद सहनी को BJP के तरफ से 11 सीटें दी गई हैं. इसके साथ विधान परिषद् की भी एक सीट सहनी की पार्टी VIP को दी जाएगी.

मुकेश सहनी को BJP ने जो सीटें दी हैं उनमें केवटी, ब्रह्मपुर, सिमरी बख्तियारपुर, अलीनगर, गौरा बौराम, सुगौली, बलरामपुर, साहिबगंज, कोचस शामिल हैं. बताया जाता है कि सहनी के हिस्से में बाकी जो 2 सीटें हैं उसपर फैसला बाद में होगा.

इसके साथ ही BJP ने अतिपिछड़ा कार्ड खेलते हुए कहा कि मुकेश सहनी पिछड़ों के सबसे बड़े नेता हैं. सुशील मोदी ने कहा कि इस बार के चुनाव में NDA से सबसे अधिक अति पिछड़ा समाज के लोगों को टिकट दिया जा रहा है.मोदी ने कहा कि बिहार में आज 1600 मुखिया अति पिछड़ा समाज के हैं. यह NDA सरकार की ही देन है. NDA सरकार ने ही पंचायतों में आरक्षण की व्यवस्था लागू की. सुशील मोदी ने कहा कि लालू सरकार ने तो 23 साल तक पंचायतों का चुनाव ही नहीं कराया था.