नो NRC इन Bihar, बिहार विधानसभा में इसके खिलाफ प्रस्ताव पारित

पटना (TBN रिपोर्ट) | राज्य से मंगलवार को एक बड़ी खबर सामने आई. बिहार विधानसभा में सर्वसम्मति से यह प्रस्ताव पास किया गया कि बिहार में एनआरसी लागू नहीं होगा. एनआरसी लागू नहीं करने का प्रस्ताव को सदन से पास किया गया है. इसके अलावे NPR पर संशोधन प्रस्ताव भी विधानसभा से पारित हुआ. इस प्रस्ताव के अनुसार बिहार में 2010 के आधार पर ही NPR होगा।
प्रस्ताव पास होने के बाद नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने सीएम नीतीश का आभार जाताया है. लेकिन इसके बाद से बीजेपी बड़ी पेशोपेश की स्थिति में है. आश्चर्य ढंग से बजट पेश होने के बाद सदन में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने कार्य स्थगन प्रस्ताव लाया जिसे स्पीकर विजय चौधरी ने मंजूर कर लिया. इसके बाद विधानसभा में इसे सर्वसम्मति से पास कर दिया गया.
बिहार विधानसभा के बजट सत्र के दूसरे दिन मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने ऐलान किया था कि बिहार में एनआरसी का कोई मतलब ही नहीं. नीतीश कुमार ने साफ तौर पर कहा कि एनआरसी बिहार में लागू नहीं होगा. नीतीश ने कहा कि एनआरसी का कोई मतलब ही नहीं है. सीएम नीतीश कुमार ने विधान सभा में कहा कि एनआरसी को लेकर हौवा खड़ा किया जा रहा है. उनके अनुसार जब पीएम नरेंद्र मोदी कह चुके हैं कि एनआरसी की कोई बात नहीं हो रही है, तो फिर इसका हल्ला क्यों हैं. सीएम नीतीश ने कहा कि एनआरसी का कोई तुक नहीं है.

वहीं, डिप्टी सीएम सुशील मोदी ने NPR को लेकर विधानसभा में बड़ा बयान दिया . उनके अनुसार बिहार में भी 2010 के फॉर्मेट पर ही एनपीआर लागू होगा.
डिप्टी सीएम सुशील मोदी ने कहा कि नीतीश कुमार के बयान पर संदेश नहीं संदेह नहीं होना चाहिये. सुशील मोदी ने कहा कि 2010 के फार्मेट पर ही बिहार में भी एनपीआर लागू होगा और किसी से भी इस सम्बन्ध में कोई दस्तावेज नहीं मांगे जायेंगे.