हड़ताली नियोजित शिक्षकों के वेतन को लेकर जारी किया बड़ा आदेश

पटना (TBN रिपोर्ट) | बिहार के मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार के साथ माध्‍यमिक शिक्षक संघ की वार्ता के बाद शिक्षकों की लम्बे समय से चली आ रही हड़ताल को वापस लेने की घोषणा के बाद राज्य सरकार ने हड़ताली शिक्षकों के लिए वेतन भुगतान का आदेश जारी कर दिया था .

इसके साथ ही शिक्षा विभाग के अपर सचिव गिरवर दयाल सिंह ने हड़ताल पर गए शिक्षकों के वेतन भुगतान को लेकर बड़ा निर्णय लेते हुए आदेश जारी कर कहा है कि लॉकडाउन अवधि का वेतन शिक्षकों और पुस्तकालध्यक्षों को दिया जाएगा.

शिक्षकों के वेतन भुगतान को लेकर शिक्षा विभाग ने अपने आदेश में कहा है कि नियोजित शिक्षक 17 फरवरी 2020 से अनिश्चितकालीन हड़ताल पर थे. 4 मई 2020 को शिक्षा विभाग के अनुरोध पर शिक्षकों ने हड़ताल की समाप्ति की घोषणा की.कोरोना संक्रमण की वजह से 24 मार्च 2020 से लॉक डाउन है. इसके तहत सभी शिक्षण संस्थानों को बंद किया गया है.

राज्य सरकार द्वारा लॉक डाउन की अवधि में बंद संस्थानों में कार्यरत सभी कर्मियों के वेतन भुगतान का निर्णय लिया है.  लॉक डाउन की अवधि 25 मार्च से 4 मई तक राज्य के प्रारंभिक माध्यमिक उच्च माध्यमिक  के शिक्षक एवं पुस्तकालय अध्यक्षों को वेतन भुगतान  का आदेश दिया गया है.

 हड़ताल पर जाने की तिथि से  24 मार्च 2020 या इस तिथि के पूर्व जिस तारीख को शिक्षक या पुस्तकालयअध्यक्ष योगदान किए हों,उस  अवधि को भविष्य में अवकाश अवधि में कार्य करने के उपरांत हड़ताल अवधि के सामंजन के संबंध में  अलग से आदेश निर्गत किया जाएगा.

बता दें बिहार राज्य शिक्षक संघर्ष समन्वय समिति के लगभग चार लाख नियोजित शिक्षक समान काम, समान वेतन के साथ सात सूत्री मांगों को लेकर अनिश्चितकालीन हड़ताल पर थे. हड़ताल ख़त्म न करने की जिद पर अड़े हुए शिक्षकों के सामने अब भूखमरी जैसी समस्या आने के बाद भी शिक्षक हड़ताल को जारी रखे हुए थे और हड़ताली शिक्षक पुराने शिक्षकों की तरह वेतनमान की मांग कर रहे थे. हालांकि इस बीच बिहार सरकार के द्वारा हड़ताली शिक्षकों के सामने विभिन्न तरह के प्रस्ताव भी रखे गए थे लेकिन शिक्षकों की ओर से नकारे जा चुके थे. वहीँ अब इस मामले को गंभीरता से लेते हुए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने  बिहार माध्‍यमिक शिक्षक संघ के साथ वार्ता की जिसके फलस्वरूप हड़ताल खत्‍म हो गई थी.