सीवान के दिवंगत पत्रकार राजदेव रंजन की पत्नी UDA में हुई शामिल

पटना (TBN – The Bihar Now डेस्क) | सीवान के दिवंगत पत्रकार राजदेव रंजन की पत्नी श्रीमती आशा यादव उर्फ़ आशा रंजन यूनाइटेड डेमोक्रेटिक अलायन्स (UDA) में शामिल हो गई. ग़ौरतलब है कि 13 मई 2016 को सीवान में पत्रकार राजदेव रंजन की गोली मार कर हत्या कर दी गयी थी. वो एक हिंदी दैनिक के ब्यूरो चीफ़ थे.

शुक्रवार को राजधानी के लव कुश टावर स्थत यूडीए के केंद्रीय कार्यालय में आयोजित एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में उन्होंने UDA जॉइन किया. उन्होंने कहा कि यशवंत सिन्हा के ‘बदलो बिहार – बनाओ बेहतर बिहार’ मुहिम में अपराध मुक्त बिहार को मज़बूती देने हेतु UDA में शामिल हुई हूँ. UDA में शामिल होते हुए कहा कि अपराध के ख़िलाफ़ मेरा संघर्ष जीवनपर्यंत चलता रहेगा. आशा यादव ने कहा कि यशवंत सिन्हा के बेदाग़ छवि से प्रभावित होकर वे UDA में शामिल हो रही है.

बाबरी मस्जिद केस में न्यायपालिका की भूमिका संदेहास्पद

प्रेस वार्ता को संबोधित करते हुए UDA के वरिष्ठ नेता सह पूर्व केंद्रीय मंत्री नागमणी ने कहा कि न्यायपालिका ने बाबरी मस्जिद केस में संदेहास्पद भूमिका निभायी है. बाबरी मस्जिद विध्वंश के बाद गठित लिब्रहान आयोग की जाँच रिपोर्ट में साफ़ है कि मस्जिद विध्वंश के पीछे RSS और भाजपा के लोग प्रत्यक्ष शामिल थे. आयोग के जाँच के बाद CBI से जाँच करवाना ही न्याय से खिलवाड़ है, वो CBI जिसे स्वयं माननीय सप्रीम कोर्ट ने सरकारी तोता कहा. भारत की न्यायपालिका पर जनता का विश्वास है, लेकिन बाबरी मस्जिद जैसे फ़ैसले से देश में अराजकता आने की संभावना है. नागमणी ने केंद्र सरकार पर भी आरोप लगाते हुए कहा कि आज विपक्ष की आवाज़ को दबाया जा रहा है तथा लोकतंत्र के चौथे स्तम्भ को गोदी मीडिया में बदल दिया गया है.

UDA कोऑर्डिनेटर राजीव भृगुकुमार ने कहा कि आशा रंजन के UDA में शामिल होने से आने वाले चुनाव में निश्चित तौर पर यशवंत सिन्हा के आवाहन पर बिहार अपराध मुक्त होगा. उन्होंने कहा कि आशा रंजन बिहार में अपराध के ख़िलाफ़ आम आदमी की लड़ाई का चर्चित चेहरा हैं.

प्रेस वार्ता में पूर्व केंद्रीय मंत्री नागमणी सहित जे पी बंधु, मो नौशाद खान, मिथिलेश कुमार शर्मा, रामलखन स्वर्णकार, श्रीमती इंदू पांडेय, अशोक कुमार, सुरेंद्र कुमार आर्य उपस्थित थे.

Leave a Reply

Your email address will not be published.