दुखित मंत्री ने दिया इस्तीफा ! कहा चपरासी तक नहीं सुनता बात

पटना (TBN – The Bihar Now डेस्क)| राज्य की राजनीतिक गलियारों के साथ साथ विभागों में भी बहुत उथल पुथल है. गुरुवार को समाज कल्याण विभाग के मंत्री मदन सहनी ने अचानक से यह कहकर इस्तीफा (Madan Sahni Resigns) देने की पेशकश कर दी कि विभाग का चपरासी तक मेरी नहीं सुनता है.

बिहार के मंत्री और जनता दल (यूनाइटेड) के नेता मदन सहनी ने गुरुवार को नौकरशाही की मनमानी पर नाराजगी व्यक्त करते हुए अपने मंत्री पद से इस्तीफा दे दिया. हालांकि, सहनी ने यह साफ किया है कि वे पार्टी नहीं छोड़ेंगे और पार्टी में ही रहेंगे.

बिहार के मंत्री ने आरोप लगाया है कि राज्य में अधिकारी जनप्रतिनिधियों के निर्देशों का पालन नहीं करते हैं. उन्होंने कहा, “अगर अधिकारी मेरी बात नहीं माने तो मैं लोगों का काम नहीं करवा पाऊंगा. अगर लोगों की मांगें पूरी नहीं की गईं तो मुझे इस पद या आवास की जरूरत नहीं है.”

मीडिया से बात करते हुए सहनी ने कहा, “मैं नौकरशाही के विरोध के रूप में इस्तीफा दे रहा हूं. मुझे सेवा देने के लिए मेरे पास आवास, वाहन और कर्मचारी हैं, लेकिन अगर मैं लोगों की सेवा नहीं कर सकता तो वे किसी काम के नहीं हैं.”

उन्होंने आगे कहा, ”राज्य में अधिकारी किसी के नियंत्रण में नहीं हैं और जनप्रतिनिधियों के निर्देशों का पालन नहीं कर रहे हैं.”

File Photo

जीतन राम मांझी ने मिलाया सुर

इस बीच, हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा (एचएएम) के अध्यक्ष जीतन राम मांझी (Jeetan Ram Manjhi HAM) ने कहा कि वह मदन सहनी के इस्तीफे से अनजान हैं. उन्होंने कहा, “मुझे इस मंत्री मदन साहनी के इस्तीफे की जानकारी नहीं है, लेकिन यह सच है कि कई प्रशासनिक अधिकारी नेताओं की बातों को तरजीह नहीं देते. मैंने पहले भी विधायकों की संयुक्त बैठक में इस मुद्दे को उठाया था.”

मांझी ने कहा कि शराब बंदी के क्रियान्वयन में कुछ खामियां हैं. गरीब लोगों को जेल भेजा जा रहा है. लेकिन अमीर लोग खुलेआम शराब पी रहे हैं. उन्होंने कहा कि 2 लाख से ज्यादा गरीब लोग अभी जेल में हैं.

File Photo

तेजस्वी के बयान को मिली हवा!

बता दें कि चंद दिनों पहले ही नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने कहा था कि दो-तीन महीनों में नीतीश सरकार गिर जाएगी. ऐसे में समाज कल्याण मंत्री मदन सहनी के मंत्रीपद से इस्तीफा देने की पेशकश से तेजस्वी की बातों को हवा जरूर मिली है.

हालांकि, मदन सहनी ने यह साफ किया है कि वे पार्टी नहीं छोड़ेंगे और पार्टी में ही रहेंगे. वहीं तेजस्वी यादव (Tejsawi Yadav RJD) ने एक बार फिर कहा है कि नीतीश सरकार का जल्द ही गिरना तय है.

आप यह भी पढ़ें – बीजेपी एमएलए ज्ञानू ने फोड़ा बम, कहा पार्टी कोटे के मंत्री घूसखोर

तेजस्वी ने कहा कि जब विभाग का चपरासी तक जब एक अतिपिछड़ा समाज से आने वाले मंत्री की नहीं सुनता है, तो आम आदमी की क्या सुनी जाएगी. तेजस्वी ने कटाक्ष करते हुए कहा कि एक मंत्री का फोन मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव नहीं उठाते हैं.

तेजस्वी ने मदन सहनी की उस बात का उल्लेख किया जिसमें मंत्री ने कहा है कि विभाग के अधिकारियों के संपत्तियों की जांच कराई जाए और खासतौर पर मुख्यमंत्री के आस-पास रहने वाले अधिकारियों की.

साथ ही तेजस्वी ने बीजेपी विधायक ज्ञानेन्द्र सिंह ज्ञानू के उस आरोप का भी जिक्र किया जिसमें ज्ञानू (Gyanendra Singh Gyanu) ने पार्टी कोटे के मंत्रियों पर बिना घूस लिए कोई काम नहीं होने का आरोप लगाया है. तेजस्वी ने नीतीश से अब अपनी अंतरात्मा को जगाने को कहा है. नेता प्रतिपक्ष ने नीतीश कुमार (Nitish Kumar CM) पर हमला बोलते हुए कहा कि वे मुंह मे दही जमाये बैठे हैं.