मेवा के बाद अब मंगल को हटाने की मांग

पटना (TBN – The Bihar Now डेस्क) | भाकपा-माले के बिहार प्रदेश सचिव कुणाल ने नीतीश-4 सरकार के गठन के तीन दिन के अंदर शिक्षा मंत्री मेवालाल चौधरी को मंत्रिमंडल से हटाए जाने पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा कि यह जन-दवाब का नतीजा है और जनता की जीत है. उन्होंने कहा कि पहले ही दिन से भाकपा-माले, पूरा विपक्ष और बिहार की जनता दागी व्यक्ति को शिक्षा मंत्री जैसा पोस्ट दिए जाने का विरोध कर रही थी.

उन्होंने आगे कहा कि नीतीश कुमार को इसकी बखूबी जानकारी थी कि मेवालाल चौधरी बिहार कृषि विश्वविद्यालय घोटाले के मुख्य आरोपी है, फिर भी मंत्री बनाया. जब पूरे बिहार में इसका प्रतिवाद हुआ तो मजबूरन उन्हें मेवालाल चौधरी को पद से हटाना पड़ा है.

माले राज्य सचिव ने यह भी कहा कि मेवालाल चौधरी के बाद मंगल पांडेय जैसे नकारा मंत्रियों को भी तत्काल मंत्रिमंडल से बाहर करने की जरूरत है. पिछले दिनों लॉकडाउन के समय में मंगल पांडेय अव्वल दर्जे के नकारा मंत्री साबित हुए हैं. पूरा बिहार लगातार उनकी बर्खास्तगी की मांग उठाता रहा. उनके मंत्रित्व में स्वास्थ्य व्यवस्था की हालत चरमराती गई, लेकिन सरकार ने उन्हें फिर से इसी मंत्रालय की जिम्मेदारी दी है. सरकार को बिहार की जनता की आवाज सुननी चाहिए.