भारत – चीन सैनिकों की खूनी झड़प में 20 भारतीय सैनिक शहीद, चीन के 43 मरे/घायल

नई दिल्ली (TBN डेस्क) | पड़ोसी देश चीन ने एक बार फिर भारत की पीठ में छुरा भोंका है. लद्दाख की गालवान घाटी (LAC) में भारतीय सैनिक और चीनी सैनिकों के बीच हुई फेस ऑफ (हिंसक झड़प) के दौरान भारतीय सेना के 20 जवान शहीद हुए हैं. इसकी पुष्टि मंगलवार रात इंडियन आर्मी की तरफ से जारी एक विज्ञप्ति में की गई है.

बताया गया है कि चीनी सैनिकों ने रात के अंधेरे में भारतीय सैनिकों पर पत्थरों, लाठियों और धारदार चीजों से हमला बोल दिया. इसमें भारत के कमांडिंग ऑफिसर समेत 20 सैनिक शहीद हो गए. 14 हजार फीट ऊंची गालवन वैली वही वैली है, जहां चीन के साथ 1962 की जंग में 33 भारतीयों की जान गई थी.

भारतीय सेना के बयान में बताया गया है कि 15-16 जून की रात में भारत और चीन के सैनिकों के बीच खूनी झड़प हुई थी. बेहद ठंडे (सब-जीरो टेंप्रेचर) वाले इलाके में लाइन ऑफ ड्यूटी पर तैनात 17 भारतीय टुकड़ियां इस झड़प में जख्मी हुईं जिसके बाद हमारे 20 जवान ठंड के कारण शहीद हो गए. बयान में बताया गया है कि भारतीय सेना देश की अखंडता और संप्रभुता को सुरक्षित रखने के लिए हमेशा प्रतिबद्ध है.

समाचार एजेंसी ANI के सूत्रों के मुताबिक इस खूनी झड़प में पीएलए (चीन) के 43 सैनिक या तो मारे गए हैं या गंभीर रूप से घायल हुए हैं. एएनआई को यह भी बताया कि एलएसी के आसपास चीनी हेलिकाप्टरों को देखा गया है. ऐसा माना जा रहा है कि इस खूनी झड़प में पीएलए के मारे गए या जख्मी हुए सैनिकों को एयरलिफ्ट किया गया है.

ज्ञातव्य है, मंगलवार को विदेश मंत्रालय ने इस झड़प को लेकर कहा कि 15 जून की देर शाम और रात को चीन की ओर से LAC को लेकर सीमा पर किए गए विवाद के कारण हिंसक झड़प हुई. इस झड़प के बाद मंगलवार 16 जून को दिल्ली में माहौल गरम रहा. विदेश मंत्री एस जयशंकर, चीफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत और आर्मी चीफ जनरल एमएम नरवने के साथ रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने अपने आवास पर दो बार समीक्षा बैठक की.

इधर, मंगलवार शाम को चीनी मीडिया ने इस हिंसक झड़प के बाद यह दावा किया कि भारतीय सेना ने गालवान घाटी में फिर LAC को पार किया और हमला बोला. यह बात चीनी मीडिया के हवाले से एनडीटीवी ने बताया.

कांग्रेस ने खूनी झड़प की इस घटना को ‘अस्वीकार्य’ बताते हुए सरकार से आग्रह किया है कि इस मामले पर देश को विश्वास में लेते हुए सभी राजनीतिक दलों को जमीनी हालात के बारे में जानकारी दी जाए.

Advertisements