कृषि व पशुपालन पैकेज से राज्य के 1.61 करोड़ किसानों और पशुपालकों को होगा लाभ

पटना (TBN रिपोर्ट) |  भारत में तेजी से बढ़ते कोरोना संक्रमण के आंकड़ों को देखते हुए घोषित लॉकडाउन की वजह से देश की अर्थव्यवस्था को भारी नुकसान पंहुचा है. देश को हुई हानि से उभारने के लिए तथा देश की अर्थव्यवस्था को सुदृढ़ बनाने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा 20 लाख करोड़ रु. आर्थिक पैकेज की घोषणा की गयी है.

इसके साथ ही वितमंत्री निर्मला सीतारमण ने प्रधानमंत्री द्वारा घोषित आर्थिक पैकेज में शामिल कृषि व पशुपालन पैकेज की घोषणा के बारे में विस्तार से बताया. इसके बारे में बात करते हुए बिहार के कृषि मंत्री प्रेम कुमार ने कहा कि केंद्रीय वित्त मंत्री के कृषि व पशुपालन पैकेज की घोषणा से राज्य के 1.61 करोड़ किसानों और पशुपालकों को लाभ होगा.

कृषि मंत्री प्रेम कुमार ने कहा कि बिहार का मखाना वैश्विक उत्पाद बनेगा. इससे बिहार का गौरव बढेगा. स्थानीय उत्पादों की ब्रांडिंग के लिए 10 हजार करोड़ के प्रावधान से बिहार में मखाना, लीची, आम, कतरनी व मिर्चा चावल की ब्रांडिंग होगी. टॉप टू टोटल योजना में 500 करोड़ से लाभ मिलेगा. इसमें टमाटर, प्याज व आलू के साथ अन्य सब्जियों को जोड़ने से सब्जी उत्पादकी को लाभ होगा.

आगे उन्होंने कहा कि मध, मशरूम, टमाटर, आलू, ओल प्रोसेसिंग यूनिट लगाने में मदद मिलेगी. इससे रोजगार के अवसर बढ़ेंगे. परिवहन व भंडारण के लिए 50 प्रतिशत अनुदान से किसानों को फसल, फल व सब्जी उत्पादक किसानों के लाभ होगा.

मछली संपदा योजना के लिए 20 हजार करोड़ की योजना का बिहार के 40 लाख से अधिक मछुआरों को लाभ होगा . मछुआरों के साथ उनके नाव का भी बीमा होगा. कृषि मंत्री ने कहा कि अधिक किसानों को कृषि लोन मिलेगा. कर्जदार किसानों का ब्याज का एक साल के लिए 2 प्रतिशत ब्याज केंद्र सरकार द्वारा देने से लाभ मिलेगा.