लॉकडाउन तोड़ गंगा घाटों पर महिलाओं की उमड़ी भीड़

फतुहा (संदीप फिरोजाबादी की रिपोर्ट):- एक तरफ बिहार सरकार कोरोना वायरस के प्रकोप को खत्म करने के लिए घोषित लॉकडाउन का  सख्ती से पालन करने पर जोर दे रही है और लॉकडाउन का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करते हुए जुर्माना भी वसूल कर रही है. लेकिन इस सबके बावजूद भी लोग धार्मिक आस्था से जुड़े होने के चलते कोरोना जैसी महामारी को नजरअंदाज करते हुए बड़ी संख्या में एकत्रित होते हैं.

ऐसा ही एक ताजा मामला फतुहा के नदी थाना क्षेत्र में देखने को मिला जहां लाॅकडाउन के बावज़ूद भी फतुहा के गंगा घाटों पर अक्षय-तृतीया के मौके पर महिलाएं स्नान के लिए पहुंची. जिला प्रशासन के भीड़ को रोकने के लिए किये गए तमाम प्रयासों के बावजूद भारी भीड़ के रूप में महिलाएं गंगा घाटों पर जुट गयीं. घाट पर पुरुषों के साथ अत्यधिक संख्या में महिलाएं मौजूद थी. लाॅकडाउन कानून का उल्लंघन करते हुए महिलाएं बिल्कुल बेपरवाह होकर स्नान करने लगीं .

इसकी जानकारी मिलने पर मौके पर पहुंचे स्थानीय थानाध्यक्ष साकेंद्र कुमार बिंद ने तुरंत कार्रवाई करते हुए घाटों पर तत्काल पहुंची महिलाओं से घर लौटने के लिए अपील भी की लेकिन महिलाएं घाट छोड़कर जाने को तैयार नहीं हुई तो पुलिस ने सख्ती दिखाते हुए महिला पुलिस द्वारा भीड़ को हटाया. हालाँकि पुलिस द्वारा की गयी कार्रवाई से कुछ ही पल में गंगा घाटों से भीड़ बिल्कुल गायब हो गई.

बिहार में इन दिनों कोरोना का जोर चरम सीमा पर है लेकिन कुछ असभ्य लोगों को अभी भी इस महामारी के दुष्परिणाम समझ में नहीं आ रहे हैं और ऐसे ही लोगों की वजह से कोरोना के आंकड़े लगातार बढ़ते ही जा रहे हैं.