फसल सुरक्षा कार्यक्रम के अंतर्गत ‘बीज टीकाकरण भान’ हुआ रवाना

पटना (TBN – The Bihar Now डेस्क)| सोमवार को कृषि निदेशक द्वारा मीठापुर (Mithapur Patna) स्थित कृषि भवन से रबी मौसम, वर्ष 2021-22 में फसल सुरक्षा कार्यक्रम (Bihar Agriculture Seed Vaccination Campaign) के अंतर्गत “बीज टीकाकरण भान” को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया गया.

कृषि निदेशक ने कहा कि रबी मौसम में लगाये जाने वाले फसलों के बीजों का शत्-प्रतिशत बीजोपचार कर बीजों को बोने के निमित्त कृषकों को जागरूक करने के उद्देश्य से सरकार द्वारा वर्तमान वर्ष में भी बीज टीकाकरण को अभियान के रूप में अपनाया है जो कि जिलों के सभी प्रखण्डों में बीज टीकाकरण अभियान के रूप में तीन चरणों में चलाया जायेगा.

आज पुनपुन, मसौढ़ी, पटना सदर, संपतचक, धनरूआ, फतुहा, खुषरूपुर, फुलवारीशरीफ, मनेर एवं बिहटा के लिये चार बीज टीकाकरण भान रवाना की गई है. इसी प्रकार, चरणबद्ध तरीके से प्रथम, द्वितीय एवं तृतीय चरणों में सभी प्रखण्डों के लिये बीज टीकाकरण भान का संचालन किया जायेगा, ताकि रबी फसलों के उत्पादन तथा उत्पादकता में वृद्धि के साथ-साथ फसलों की गुणवत्ता एवं पर्यावरण संरक्षण आदि में सुधार हो.

उन्होंने कहा कि कार्यक्रम की सफलता के लिये जिन मापदण्डों को अपनाया गया है, उसमें बीज टीकाकरण भान के परिचालन हेतु रूट एवं तिथि का निर्धारण कर दिया गया है. प्रत्येक बीज टीकाकरण भान के द्वारा प्रतिदिन एक प्रखण्ड में भ्रमण किया जायेगा. पोस्टर एवं बैनर से सुसज्जित एवं ध्वनि विस्तारक यंत्र से युक्त इस भान के माध्यम से विभागीय योजनाओं का प्रचार-प्रसार किया जायेगा.

यह भी पढ़ें| पटना सीरियल ब्लास्ट: 4 लोगों को फांसी, बाकियों को ये हुई सजा

साथ ही, कृषकों को इसकी महत्ता की जानकारी भी दी जायेगी. इस भान पर सवार तकनीकी कर्मचारी के द्वारा किसानों को बीज टीकाकरण अभियान के संबंध में जागरूक करने का काम किया जायेगा . पौधा संरक्षण द्वारा प्रकाशित लीफलेट एवं पम्पलेट का वितरण बीज टीकाकरण भान के माध्यम से कृषकों के बीच किया जायेगा.

कृषि निदेशक ने कहा कि इस अभियान से रबी मौसम के विभिन्न फसलों में लगने वाले कीट एवं व्याधि पर नियंत्रण किया जा सकेगा, जिससे फसलों का कम-से-कम नुकसान होगा तथा फसलों के उत्पादन एवं उत्पादकता में वृद्धि होगी.

इस अवसर पर संयुक्त निदेशक (पौधा संरक्षण) डॉ॰ प्रमोद कुमार, संयुक्त निदेषक (शष्य) पटना प्रमंडल सर्वजीत कुमार, संयुक्त निदेशक (शष्य), शिक्षा शंकर कुमार चौधरी, उप निदेशक, पौधा संरक्षण गोपाल शरण प्रसाद सहित अन्य लोग उपस्थित थे.