मरते दम तक शिक्षक संघ संघर्ष रखेगा जारी

पटना (TBN रिपोर्ट) :- बिहार शिक्षा विभाग की ओर से एक लेटर जारी कर हड़ताली नियोजित शिक्षकों को यह निर्देश दिया गया है. जिसके अनुसार जो भी शिक्षक ड्यूटी ज्वाइन करना चाहते हैं, वो अपना अभ्यावेदन व्हाट्सएप या ईमेल के माध्यम से जिला शिक्षा पदाधिकारी या जिला कार्यक्रम पदाधिकारी को दे सकते हैं. हड़ताली शिक्षकों के लिए जारी इस अपील पर आक्रोश व्यक्त करते हुए बिहार माध्यमिक शिक्षक संघ के महासचिव सह पूर्व सांसद शत्रुघन प्रसाद सिंह ने कहा है कि, “राज्य के करीब 45 हड़ताली शिक्षकों की जिन्दगी लील लेने वाली सरकार के शिक्षा मंत्री जी कोरोना संकट मे मानवता की दुहाई दे रहे हैं”.

शत्रुघन प्रसाद सिंह ने कहा कि, “हम चाणक्य के वंशज है हमको मानवता की परिभाषा न सिखाएं . हम तो हड़ताल मे रहकर आपके द्वारा किए गए गैर कानूनी दमनात्मक कार्रवाइयों को झेलते हुए भी स्वेच्छा से इस कोरोना वैश्विक महामारी मे जन जागरूकता से लेकर क्वारेंटाइन  सेंटर पर पीड़ित मानवता की सेवा करते हुए अपनी सामाजिक दायित्वों का भलीभांति निर्वहन कर रहे हैं “.

आगे उन्होनें कहा कि, “इतने शिक्षकों की मृत्यु के बाबजूद भी किसी तरह से संवेदनशील नहीं होना संवेदना के सभी सूत्रों को तो आपने खंडित करने का दुहसाहस किया है . शिक्षक की औचित्यपूर्ण मांगों को हमारी विवशता समझने का भूल नहीं करें . मुझे भी अपने वाजिब अधिकारों के लिए ससमय फैसला लेने आता है . हम एक हैं,अडिग हैं ,अखंडित हैं और सांगठनिक रूप से अनुशासित एवं एकताबद्ध हैं .और सरकार के ऐसे सभी कुचक्रों का मुहतोड़ जबाब देने के लिए हमारे सभी जाबांज साथी दृढसंकल्पित हैं”.