थाना प्रभारी ने किया दुर्व्यवहार, डीजीपी से लगाई मदद की गुहार

पूर्वी चंपारण (TBN रिपोर्ट) :-  एक तरफ बिहार में कोरोना को हराने की जंग में स्वास्थ्य विभाग के साथ पुलिस प्रशासन भी कदम से कदम मिलाकर चल रहा है. वहीँ दूसरी तरफ आम लोगों के लिए पुलिस का दूसरा रुख देखने को मिला है.

ताज़ा घटना के अनुसार एक व्यक्ति ने थानाप्रभारी के द्वारा बेवजह जब्त की गयी अपनी बाइक छोड़ने के लिये कहा तो वे आगबबूला हो गए और उन्होंने गालियों की बौछार कर दी. बात बात में भद्दी भद्दी गालियां देते हुए थाना प्रभारी का ऑडियो भी वायरल हो गया है .

मामले के अनुसार पूर्वी चंपारण के चिरैया ब्लॉक थाना शिकारगंज के रहने वाले अतीकुर्रहमान ने थाना प्रभारी शिकारगंज से अपना बाइक छोड़ने के लिये अनुरोध किया तो उन्होंने फोन पर ही भद्दी भद्दी गालियां देनी शुरू कर दी.

अतिकुर्रहमान ने बताया कि इस इलाके में मेरी बस चलती है. उसका नाम वैष्णो ट्रांसपोर्ट है. MVI , मोतिहारी के द्वारा मुझसे गाड़ी मांगा गया था. मैंने मधुबन से बस के स्टाफ को बुलाने के लिए अपने भाई को सुबह में बाइक से भेजा था.तो वापसी में स्टाफ को लेकर आये तो शिकारगंज थाना के द्वारा मेरे भाई को रोका लिया गया और बाइक का पेपर माँगा गया.

अतिकुर्रहमान ने बताया कि मेरे द्वारा बहुत समझाने पर भी जब बाइक नहीं छोड़ा गया तो मैंने थाना प्रभारी महोदय से फ़ोन पर बात किया और कहा कि MVI  के आदेश पर स्टाफ को बुलाकर ले जा रहा हूँ और कोरोना जैसी महामारी में भी जान पर खेल कर अपनी बस को चला रहा हूँ. फिर उनसे गुहार लगायी की मेरे भाई की बाइक को छोड़ दिया जाये ताकि कोरोना में अपने बस को भेज सकूं.

बस इतनी सी बात पर थानाप्रभारी बेवजह गर्म हो गए और फ़ोन पे ही मुझे भद्दी भद्दी गालियां देने लगे. मुझे देख लेने की धमकी भी दी.इसकी शिकायत मैंने स्थानीय अधिकारीयों से भी की है, लेकिन  कुछ भी निष्कर्ष नहीं निकला.

अतिकुर्रहमान ने बताया कि इसे देखते हुये मैंने बिहार के डीजीपी से भी शिकायत की है. अब उन्ही से न्याय की उम्मीद है.