शेफालिका ने किया बिहार का नाम रोशन

 

 

आज भी भारत में बहुत सी ऐसी जगह हैं जहाँ लोग बेटी के पैदा होने पर शोक मनाते हैं और बेटा बेटी में फर्क करते हैं। अभी भी बहुत से लोगों की मानसिकता है कि जो काम एक बेटा कर सकता है वो बेटी कभी नहीं कर सकती। बिहार की शेफालिका ऐसे लोगों की मानसिकता पर करारी चोट करती हैं। अमेजन जैसी विख्यात कंपनी ने बिहार की बेटी शेफालिका को 1.10 करोड़ के बड़े पैकेज पर नौकरी के लिए नियुक्त किया है।

बचपन से ही मेधावी शेफालिका की कंप्यूटर में अच्छी खासी रूचि थी। उन्होने अपनी स्कूली शिक्षा माउंट कारमेल स्कूल से करने के बाद चेन्नई से आगे की पढाई की। वो नौकरी का एक्सपीरियंस लेने के लिए पढ़ाई के साथ साथ पार्ट टाइम जॉब भी करती थीं। इसके बाद वो उच्च शिक्षा के लिए अमेरिका गयीं और वहां कंप्यूटर में मास्टर्स की डिग्री ली। और आज शेफालिका अमेरिका के डलास नाम के शहर में स्थित अमेजन ऑफिस में काफी उच्च पद पर हैं।

ये सच में गर्व की बात है कि भागलपुर जैसी छोटी सी जगह से निकलकर अमेरिका जैसे बड़े देश में भारत का नाम रोशन करने वाली शेफालिका ने बेटा बेटी के फर्क को मिटाकर ये साबित कर दिया कि अगर एक बेटी चाहे तो कड़े परिश्रम से अपने सपनों को साकार कर सकती है। शेफालिका का बिहार से अमेरिका तक का सफर सभी के लिए प्रेरणादायक है और खासकर उन लोगों के लिए जो लोग बेटी के पैदा होने पर अफ़सोस करते हैं।