शत्रुघ्न के बेटे लव सिन्हा भी उतरेंगे मैदान में, बांकीपुर का चुनाव कांटे का

पटना (TBN – The Bihar Now डेस्क) | कोरोना काल में होने जा रहे बिहार विधान सभा चुनाव में इस बार पटना के बांकीपुर विधानसभा का चुनाव काफी दिलचस्प होने वाला है. कारण है, इस विधान सभा सीट से कई बड़े चेहरों की उम्मीदवारी. इसी विस क्षेत्र से स्वयं मुख्यमंत्री का भावी उम्मीदवार बताने वाली पुष्पम प्रिया चौधरी से लेकर भाजपा नेत्री और राष्ट्रीय महिला आयोग की सदस्य रह चुकी सुषमा साहू और शॉटगन शत्रुघ्न सिन्हा के बड़े बेटे लव सिन्हा चुनाव लड़ने का मन बना चुके हैं. वहीं इस बार भाजपा ने अपने तीन बार के विधायक नितिन नवीन को उतारा है.

मालूम हो कि भाजपा के नितिन नवीन पिछले तीन बार से बांकीपुर विधानसभा सीट से जीतते आ रहे हैं और वह भी भारी मतों से. लेकिन इस बार भाजपा के इस गढ़ में सेंध लगाने के लिए कई ऐसे चर्चित चेहरे हैं जो अपनी जीत के लिए ताल ठोंक रहे हैं.

आप ये भी पढ़ें –
तेजप्रताप बताइए, बिना नौकरी और बिजनेस के आप करोड़ों के मालिक कैसे बनें – सुशील मोदी
JDU उम्मीदवार पर मुकदमा दर्ज

आखिर बांकीपुर ही क्यों

बता दें कि बांकीपुर कायस्थ बहुल इलाका है. यहां के कायस्थ एग्रेसिव वोटर माने जाते हैं. बांकीपुर विधानसभा क्षेत्र में 3 लाख 80 हजार वोट हैं. इसमें 1 लाख 77 हजार वोट महिलाओं का है और बाकी 2 लाख 3 हजार वोट पुरुषों का हैं. 2015 में बांकीपुर विधानसभा क्षेत्र में 40.2% वोटिंग हुई थी. ऐसे में ब्राह्मण समुदाय की पुष्पम प्रिया चौधरी, वैश्य समुदाय से आने वाली सुषमा साहू और कायस्थ समाज से आने वाले लव सिन्हा और नितिन नवीन कितना वोटरों को अपने पक्ष में कर पाते हैं, यह 10 नवंबर को होने वाली काउंटिंग में पता चलेगा.

किसमें कितना है दम

भाजपा के नितिन नवीन पिछले तीन बार से बांकीपुर विधानसभा सीट से जीतते आ रहे हैं और वह भी भारी मतों से. पिछली बार नितिन नवीन ने कांग्रेस के कुमार आशीष को 39767 वोट से हराया था.

आप ये भी पढ़ें –
15 साल मटर छील रहे थे क्या?…राबड़ी का सुशील कुमार मोदी पर अटैक, कहा तेजस्वी सिखाएगा राजनीति…
नीतीश ने कहा, अगर जीते तो इन सब जगहों पर काम होगा….

उधर अपने आपको बिहार का भावी मुख्यमंत्री कहने वाली पुष्पम प्रिया चौधरी भी बांकीपुर से चुनाव लड़ने को तैयार हैं. सोशल मीडिया पर लगातार चर्चित रहने के बावजूद सार्वजनिक जगहों पर पुष्पम प्रिया चौधरी को कभी नहीं देखा गया. अक्सर वह लोगों से दूर दूर ही दिखाई देती रही हैं. ऐसे में बांकीपुर विधानसभा की जनता से वह कितनी कनेक्ट हो पाती हैं यह तो चुनाव में पता चलेगा.

जहां तक लव सिन्हा के राजनीतिक कैरियर की बात है तो उनकी पहचान उनके पिता शत्रुघ्न सिन्हा से है. इसके अलावे उनकी दूसरी कोई पहचान नहीं है. सो इस बार वे कांग्रेस से बांकीपुर विधानसभा क्षेत्र से ताल ठोंकेगे. अक्सर शत्रुघ्न सिन्हा के आसपास रहने वले लव सिन्हा और कुश सिन्हा बांकीपुर क्षेत्र में अभी तक न ही दौरा किया है और न ही लोगों के संपर्क में आए हैं. फिर भी इनको लगता है कि बांकीपुर सीट इनके लिए सबसे ज्यादा सुरक्षित होगा.

अब बात कर लेते हैं भाजपा नेत्री और पूर्व में राष्ट्रीय महिला आयोग की सदस्य रही सुषमा साहू की. भाजपा की सबसे तेज तर्रार महिला नेत्रियों में शुमार हैं सुषमा साहू जो कि बिहार प्रदेश महिला मोर्चा की अध्यक्ष भी रह चुकी हैं, जब केंद्र में नरेंद्र मोदी की सरकार आई तो इनको राष्ट्रीय महिला आयोग का सदस्य बनाया गया. इसके बाद जब वापस यह पटना पहुंची तो उन्होंने बांकीपुर विधानसभा क्षेत्र से चुनाव लड़ने का मन बनाया है. वैश्य समाज से आने वाली सुषमा साहू भाजपा के ही कैडर वोटों में सेंध लगाने का मन बना चुकी है.

अब देखना दिलचस्प होगा की इतने बड़े बड़े उम्मीदवारों में से जनता किस्से चुनेगी.