पाठक सख्ती से लागू करेंगे राज्य में शराबबंदी, नीतीश ने जताया भरोसा

पटना (TBN – The Bihar Now डेस्क)| अपने कड़ी तेवर के लिए मशहूर सीनियर आईएएस पदाधिकारी केके पाठक (KK Pathak IAS) के केन्द्रीय प्रतियुक्ति से वापस आने के बाद उन्हें बड़ी जिम्मेदारी सौंपी गई है. उन्हें राज्य में शराबबंदी (Prohibition) को सख्ती से लागू करने के लिए निबंधन उत्पाद एवं मद्य निषेध विभाग (Registration Excise and Prohibition Department) में अपर मुख्य सचिव (Additional Chief Secretary) बनाया गया है.

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar CM) ने पाठक पर भरोसा दिखाते हुए उन्हें फिर से शराबबंदी को सख्ती से लागू करने के लिए यह जिम्मेदारी सौंपी है. इस बावत सामान्य प्रशासन विभाग ने अधिसूचना जारी कर दी है. आपको बता दें, केके पाठक ने ही बिहार में शराबबंदी को लागू करवाया था.

नीतीश कुमार ने मंगलवार को हुए शराबबंदी की समीक्षा बैठक के बाद आज बुधवार को यह बड़ा फैसला लिया है. निबंधन उत्पाद एवं मद्य निषेध विभाग का अतिरिक्त प्रभार संभाल रहे वर्तमान अपर मुख्य सचिव चैतन्य प्रसाद (Chaitanya Prasad IAS) को विभाग से मुक्त कर दिया गया है.

बता दें, सीएम नीतीश कुमार ने इससे पहले भी शराबबंदी कानून का सख्ती से पालन कराये जाने की जिम्मेदारी केके पाठक को दी है. केके पाठक अपने कड़े तेवर से अपराधियों पर लगाम लगाने के लिए जाने जाते रहे हैं. पिछली बार भी उन्होंने शराब माफियाओं के खिलाफ बड़ा अभियान चलकर उनके खिलाफ कई कार्रवाई की थी, जिससे शराब माफियाओं में भी एक तरह के डर की बात कही जाने लगी थी.

यह भी पढ़ें| कंगना के बयान की गहराई से कांप रहे नकलची

माना जा रहा है कि बिहार में शराबबंदी को सफल बनाने के लिए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने एक बार फिर ज़ीरो से शुरुआत की है. इसी कड़ी में केके पाठक केन्द्रीय प्रतिनियुक्ति से वापस लौटने के बाद यह बड़ी जिम्मेदारी मिली है. उम्मीद की जा रही है कि पाठक को मिली इस नई जिम्मेदारी के बाद अब राज्य में शराबबंदी कानून को और सख्ती से लागू कराया जाएगा.