लॉकडाउन तोड़ने वाले बख्शे नहीं जाएंगे – DGP

पटना (संदीप फिरोजाबादी की रिपोर्ट) :- कोरोना वायरस संक्रमण के आंकड़े कम होने का नाम नहीं ले रहा है. इसको देखते हुए, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 14 अप्रैल को खत्म होने वाले लॉकडाउन को 3 मई तक बढ़ाने का फैसला लिया है.

इधर राज्य में बढ़ते हुए आकंड़ों के मद्देनज़र मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये हुई बातचीत में प्रधानमंत्री से राज्य में लॉकडाउन बढ़ाने की अपील करते हुए नरेंद्र मोदी के लॉकडाउन के आगे बढ़ाने के फैसले का समर्थन भी किया. मंगलवार को देश को सम्बोधित करते हुए  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लॉकडाउन को आगे बढ़ा दिया है.

इस पर बिहार के डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय ने कहा कि, “लॉकडाउन को लेकर पुलिस पहले से ही तैयार थी. लॉकडाउन का राज्य में सख्ती के साथ पहले से पालन कराया जा रहा है इसके साथ ही लॉकडाउन का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जा रही है. किसी को बख्शा नहीं जा रहा है. जो लोग माहौल बिगाड़ने की कोशिश कर रहे है उनके खिलाफ कार्रवाई करते हुए उनका नाम गुंडा रजिस्टर में दर्ज किया जा रहा है”.

नेपाल में जालिम मुखिया के द्वारा अवैध तरीके से भारत में कोरोना संदिग्धों के प्रवेश कराने के मामले पर गुप्तेश्वर पांडेय ने कहा कि, “भारत और नेपाल सीमा पर सुरक्षा कड़ी की गई है. कोई भी संदिग्ध प्रवेश नहीं कर सकता है”.

बता दें कि बिहार नेपाल बॉर्डर पर सक्रिय जाली नोटों के मास्टरमाइंड कोरोना संक्रमित लोगों को गैर कानूनी तरीके से भारत में प्रवेश दिलाने की साजिश रच रहे हैं. सशस्त्र सीमा बल (एसएसबी) की ओर से दी गयी खुफिया जानकारी के अनुसार बिहार से सटे नेपाल की सीमा का इस्तेमाल भारत में कोरोना संक्रमित लोगों को लाने के लिए किया जा सकता है.

भारत के पड़ोसी राज्य नेपाल में बैठा अपराधी जालिम मुखिया बिहार में कोरोना फैलाने की साजिश रच रहा है. कोरोना पॉजिटिव पाए गए लोगों को वह भारत में चोरी-छुपे प्रवेश कराने की फिराक में है. सशस्त्र सीमा बल (एसएसबी) की खबर के बाद से नेपाल- बिहार बॉर्डर पर कड़ी सुरक्षा कर दी गयी है और सभी पर निगरानी रखी जा रही है.